shayan kaksh tatha sone ka tareeka

शयनकक्ष तथा सोने का तरीका – वास्तु और स्वास्थ्य – shayan kaksh tatha sone ka tareeka – vastu aur swasthya

सामान्यत : मनुष्य का शयनकक्ष नैत्रृत्य दक्षिण तथा पश्चिम भाग में हो । अविवाहित पुत्र का कक्ष आग्नेय भाग में उत्तम, तथा पुत्रियो का वायव्य दिशा में उत्तम, ईशान्य भाग में बुजुर्ग लोगो का शयनकक्ष उत्तम, ईशान्य भाग में नवविवाहीतोका कक्ष गलत माना गया है । शयनकक्ष में सोते समय हमेशा सर दिवार को सटाकर …

शयनकक्ष तथा सोने का तरीका – वास्तु और स्वास्थ्य – shayan kaksh tatha sone ka tareeka – vastu aur swasthya Read More »