अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि

अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि – Ashlesha nakshatra puja vidhi

अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि : अश्लेषा जातक हमेशा कार्य की सेवा करते हैं। भाई की सेवा और काम करना स्वाभाविक है। स्वतंत्र होने पर वे परोपकारी होते हैं।

Lal Kitab in Hindi
अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि
अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि

अश्लेषा नक्षत्र की गुणवत्ता और प्रकृति

अश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोगों के प्राकृतिक गुण सांसारिक उन्नति, लज्जा और सौंदर्य के प्रयास होते हैं। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति की आंखों और शब्दों में विशेष प्रभाव है। लग्न स्वामी चंद्रमा होने के कारण ऐसे जातक उच्च श्रेणी के इंजीनियर, डॉक्टर, वैज्ञानिक या शोधकर्ता भी होते हैं क्योंकि चंद्रमा औषधि है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक बहुत चतुर बुद्धि के होते हैं। तुम अक्सर जन्म स्थान से दूर रहते हो। आपका वैवाहिक जीवन बहुत मीठा नहीं कहा जा सकता। अश्लेषा नक्षत्र के स्वामी चंद्र और नक्षत्र स्वामी बुध हैं। गोंड नक्षत्र होने के कारण अश्लेषा का सांपों से गहरा नाता है।

अश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वाला व्यक्ति अक्सर अपनी बातों से मुकर जाता है। गुस्सा आपकी नाक पर रहता है। किसी पर जल्दी गुस्सा आना आपके स्वभाव में है। बुध और चंद्रमा में शत्रुता के कारण इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले व्यक्ति की विचारधारा संकीर्ण हो जाती है और मन कर्तव्य का शिकार हो जाता है। अश्लेषा नक्षत्र का व्यक्ति शर्मीला, ईर्ष्यालु, शरारती, स्वभाव से पाप कर्म करने से हिचकता नहीं है। ऐसा व्यक्ति किसी भी प्रकार के नियम या आचरण का पालन करने वाला नहीं है।

ये भी पढ़े :   आश्लेषा मंत्र - मूल नक्षत्र और उनके प्रभाव - Ashlesha spells - mool nakshatr aashlesha mantr

अश्लेषा जातक हमेशा कार्य की सेवा करते हैं। भाई की सेवा और काम करना स्वाभाविक है। स्वतंत्र होने पर वे परोपकारी होते हैं।

अश्लेषा नक्षत्र में जन्मी महिलाओं का कद ऊंचा और सुंदर लेकिन झगड़ालू प्रवृत्ति का होता है। यह हमेशा दूसरों का अहंकार और उच्च कोटि की प्रेमिका साबित होती है। जो भी उससे प्यार करता है वह मरने तक उसके साथ खेलता है।

अश्लेषा के अंत में गोंड होता है, इसलिए व्यक्ति अल्पायु होता है, इसलिए अश्लेषा के नियम के तहत विधि-विधान से शांति की आवश्यकता होती है।

प्रकृति संकेत- जो उपकार पर हैं, वे हैं अश्लेषा जातक।

रोग की संभावना: सर्दी, खांसी, वायु रोग, पीलिया, घुटनों में दर्द और विटामिन बी की कमी।

अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि चरण

चरण 1: इस चरण का स्वामी गुरु है। अश्लेषा नक्षत्र के प्रथम चरण में जन्म लेने वाला व्यक्ति अत्यधिक धनवान होता है, लेकिन आय अनैतिक कार्यों के कारण होती है। विदेश में भाग्योदय और बुढ़ापे में अंग के फ्रैक्चर का खतरा रहता है। धार्मिक, राजनीतिक और सामाजिक कार्यों में पूरी रुचि तो है लेकिन सफलता के लिए अन्याय और झूठ का भी सहारा लेते हैं। सच्ची दोस्ती में बिल्कुल विश्वास नहीं है ।

चरण-२ : इस चरण का स्वामी शनि है। अश्लेषा नक्षत्र के दूसरे चरण में जन्म लेने वाला व्यक्ति हमेशा धन संग्रह करने में असफल रहता है। प्रतिष्ठा की कमी नहीं है, लेकिन उसके अनुसार धन प्राप्त करने के सभी प्रयास विफल हो जाते हैं।

चरण-3: इस चरण का स्वामी शनि है। अश्लेषा नक्षत्र के तीसरे चरण में जन्म लेने वाला व्यक्ति हमेशा धन संग्रह करने में असफल रहता है। प्रतिष्ठा की कमी नहीं है, लेकिन तदनुसार सरे के प्रयास धन प्राप्त करने में असफल हो जाते हैं।

ये भी पढ़े :   मूल नक्षत्र मंत्र - मूल नक्षत्र और उनके प्रभाव - Original Star spells - mool nakshatra mantra

चरण-4: इस चरण का स्वामी गुरु है। अश्लेषा नक्षत्र के चौथे चरण में जन्म लेने वाले व्यक्ति के लिए प्रतिष्ठा की कमी नहीं है, लेकिन धन की कमी है।

अश्लेषा नक्षत्र का देवता शेषनाग को  माना जाता है, इसलिए यदि जन्म नक्षत्र अश्लेषा शिकार या अशुभ प्रभाव में हो तो नागों की पूजा करनी चाहिए। सांपों को दूध पिलाकर भी इसे कम किया जा सकता है। भगवान विष्णु की पूजा भी इसलिए कही गई थी क्योंकि शेषनाग भगवान विष्णु की क्यारी है, इसलिए इनकी पूजा करने से इस नक्षत्र के शुभ प्रभाव को भी बढ़ाया जा सकता है। भगवान शंकर के गले में भी सांपों की माला हमेशा पड़ी रहती है, इसलिए कुछ विद्वानों का मत है कि भोलेनाथ की पूजा करने से भी इस नक्षत्र का शुभ प्रभाव दिया जा सकता है। पुष्य नक्षत्र भगवान शंकर और विष्णु जी की नियमित पूजा करने पर इसके पापी प्रभाव का नाश जरूर करेगा।

नियमित रूप से भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र “ऊं नम: शिवाय” को माला के रूप में जप करने से व्यक्ति आध्यात्मिक और सांसारिक उन्नति भी कर सकता है। अश्लेषा नक्षत्र के बीज मंत्र ““ऊं गन” का 108 बार जप करके व्यक्ति जीवन के किसी भी क्षेत्र में नहीं होने पर भी उन्नति की सीढ़ियां चढ़ सकता है।

ये भी पढ़े :   ज्येष्ठा नक्षत्र - नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें - Jyeshtha Star - jyeshtha nakshatr

इस नक्षत्र में आकाश, हल्का पीला या सफेद होने पर हल्के रंगों का प्रयोग करने पर भी यह शुभ फल दे सकता है। इस नक्षत्र की स्थिति में सांपों की पूजा की जाती रही है और यदि किसी में शक्ति है तो वह एक जोड़ी सर्प-सर्प सोना बनाकर प्रतिदिन उसकी प्राण-प्रतिष्ठा कर सकता है। पूजा में कुमकुम या घी, दीपक, फूल, केसर,
अक्षत, अगरबत्ती, आदि का प्रयोग करना चाहिए। घी और शक्कर मिलाकर घर-घर जाकर अश्लेषा नक्षत्र के वैदिक मंत्र का 108 बार जाप करना चाहिए। यदि घर जाना संभव न हो तो केवल मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जप करना चाहिए, वैदिक मंत्र है:-

ऊँ नमोस्तु सर्पेभयो ये के पी. पी. पीप्रितिदेवी मनु: ये स्थानदितभैया: सर्वभायो नम: ऊँ तक्षेश्वरय नम:।
Kundli dosh nivaran in hindi


अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि शांति –

  • अश्लेषा नक्षत्र पूजा विधि : नक्षत्र की पूजा कुंडली में अश्लेषा नक्षत्र के अशुभ प्रभावों को सही और शांत करने के लिए लोग अश्लेषा पूजा करते हैं।
  • लाभ मिलने के लिए लोग यह पूजा करते हैं। इस पूजा सकारात्मकता और शक्ति मिल सकती है।
  • वे गंधामूल दोष निवारण पूजा के रूप में अश्लेषा नक्षत्र की पूजा भी करते हैं।
  • जिन मामलों में कुंडली में गंधमूल दोष का निर्माण अश्लेषा नक्षत्र में चंद्रमा की उपस्थिति की अच्छाई से किया जाता है।
  • बुधवार को पंडित अश्लेषा नक्षत्र पूजा की राय देते हैं।
  • जातक की कुंडली के आधार पर दिन बदल सकता है।
  • पंडित इस पूजा के तहत अश्लेषा नक्षत्र वेद मंत्र का जाप करते हैं।

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Comment