;

वैदिक एस्ट्रोलॉजी

angarka yoga

अंगारक योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Angarka Yoga – vaidik jyotish Shastra

  अंगारक योग की वैदिक ज्योतिष में प्रचलित परिभाषा के अनुसार यदि किसी कुंडली में मंगल का राहु अथवा केतु में से किसी के साथ स्थान अथवा दृष्टि से संबंध स्थापित हो जाए तो ऐसी कुंडली में अंगारक योग का निर्माण हो जाता है जिसके कारण जातक का स्वभाव आक्रामक, हिंसक तथा नकारात्मक हो जाता …

अंगारक योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Angarka Yoga – vaidik jyotish Shastra Read More »

important yoga of vedic astrology

वैदिक ज्योतिष के महत्वपूर्ण योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Important Yoga of Vedic Astrology – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक ज्योतिष में प्रचलित परिभाषा के अनुसार किसी कुंडली के किसी घर में जब सूर्य तथा बुध संयुक्त रूप से स्थित हो जाते हैं तो ऐसी कुंडली में बुध आदित्य योग का निर्माण हो जाता है तथा इस योग का शुभ प्रभाव जातक को बुद्धि, विशलेषणात्मक क्षमता, वाक कुशलता, संचार कुशलता, नेतृत्व करने की …

वैदिक ज्योतिष के महत्वपूर्ण योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Important Yoga of Vedic Astrology – vaidik jyotish Shastra Read More »

nakshatra in vedic period

वैदिक काल में नक्षत्र – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Nakshatra in Vedic period – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक काल में नक्षत्र केवल चमकीले तारे या सुगमता से पहचाने जाने वाले छोटे तारे के पुंज थे,परन्तु आकाश में इनकी बराबर दूरी न होना एवं तारों का पुंज न रहने से बडी असुविधा रही होगी। इसके अतिरिक्त चन्द्रमा की जटिल गति भी कठिनाई से ज्ञात हुयी होगी। पूर्णिमा के के होने की सही …

वैदिक काल में नक्षत्र – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Nakshatra in Vedic period – vaidik jyotish Shastra Read More »

chandra mangal yoga

चन्द्र मंगल योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Chandra Mangal Yoga – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक ज्योतिष में चन्द्र मंगल योग की प्रचलित परिभाषा के अनुसार यदि किसी कुंडली में चन्द्रमा तथा मंगल कुंडली के एक ही घर में स्थित हो जाते हैं तो ऐसी कुंडली में चन्द्र मंगल योग का निर्माण हो जाता है। चन्द्र मंगल योग द्वारा प्रदान किये जाने वाले फलों के लेकर विभिन्न ज्योतिषी भिन्न …

चन्द्र मंगल योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Chandra Mangal Yoga – vaidik jyotish Shastra Read More »

brain according to vedic astrology

वैदिक ज्योतिष अनुसार मस्तिष्क – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Brain according to vedic astrology – vaidik jyotish Shastra

  ईश्वर नें इस ब्राह्मंड को पूर्णतय: स्वचालित बनाया है। इसमे विधमान समस्त ग्रह अपने निश्चित मार्ग पर निश्चित गति से निरंतर भ्रमणशील रहते हैं। और भ्रमण के दौरान ये किसी व्यक्ति की जन्मकुडंली के जिस भाव में स्थित होते हैं. उसी से सम्बद्ध उस व्यक्ति के मस्तिष्क के भाग को प्रभावित करते हैं। ► …

वैदिक ज्योतिष अनुसार मस्तिष्क – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Brain according to vedic astrology – vaidik jyotish Shastra Read More »

there are 94 elements in the rigveda.

ऋग्वेद में 94अवयव कहे गये है – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | There are 94 elements in the Rigveda. – vaidik jyotish Shastra

  ऋग्वेद में 94अवयव कहे गये है तुर्भि: साकं नवति च नामभिश्चक्रं न वृतं व्यतीखींविपत। बृहच्छरीरो विमिमान ऋक्कभियुर्वाकुमार: प्रत्येत्याहवम॥ (ऋ.म.१.सू.१५५.म.६.) उक्त मंत्र में गति विशेष द्वारा विविध स्वभाव शाली काल के ९४ अंशों को चक्र की तरह वृत्ताकार कहा गया है। उक्त कालावयवों में १ सम्वतसर २ अयन ५ ऋतुयें १२ माह २४ पक्ष ३० …

ऋग्वेद में 94अवयव कहे गये है – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | There are 94 elements in the Rigveda. – vaidik jyotish Shastra Read More »

eclipse sum

ग्रहण योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Eclipse sum – vaidik jyotish Shastra

  ग्रहण योग को वैदिक ज्योतिष के अनुसार कुंडली में बनने वाला एक अशुभ योग माना जाता है जिसका किसी कुंडली में निर्माण जातक के जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में समस्याएं पैदा कर सकता है। वैदिक ज्योतिष में ग्रहण योग की प्रचलित परिभाषा के अनुसार यदि किसी कुंडली में सूर्य अथवा चन्द्रमा के साथ राहु …

ग्रहण योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Eclipse sum – vaidik jyotish Shastra Read More »

moon and rasi zodiac

चंद्रमा और रासी / राशि – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Moon and Rasi / Zodiac – vaidik jyotish Shastra

  भारतीय ज्योतिष में चंद्रमा को बहुत महत्व दिया जाता है क्योंकि यह पृथ्वी के सबसे नजदीक है इसलिए यह हम पर बहुत प्रभाव भी डालता है | चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण के कारण समुन्द्र में ज्वार-भाटा पैदा होता है और इसके साथ ही पौधे जानवर व मनुष्य भी इससे प्रभावित होतें हैं | एक की …

चंद्रमा और रासी / राशि – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Moon and Rasi / Zodiac – vaidik jyotish Shastra Read More »

three differences of mathematics astrology

गणित ज्योतिष के तीन भेद – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Three differences of mathematics astrology – vaidik jyotish Shastra

  गणित ज्योतिष के तीन भेद 1. तंत्र गणित 2. करण गणित 3. सिद्धान्त गणित जिस गणित के द्वारा कल्प से लेकर आधुनैक काल तक के किसी भी इष्ट दिन के खगोलीय स्थितिवश गत वर्ष मास दिन आदि सौर सावन चान्द्रभान को ज्ञात कर सौर सावन अहर्गण बनाकर मध्यमादि ग्रह स्पष्टान्त कर्म किये जाते है,उसे …

गणित ज्योतिष के तीन भेद – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Three differences of mathematics astrology – vaidik jyotish Shastra Read More »

duddhara yoga

दुर्धरा योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Duddhara Yoga – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक ज्योतिष में दुर्धरा योग की प्रचलित परिभाषा के अनुसार यदि किसी कुंडली में चन्द्रमा से पिछले घर में तथा चन्द्रमा से अगले घर में कोई ग्रह स्थित हो तो कुंडली में दुर्धरा योग बनता है जो जातक को शारीरिक सुंदरता, स्वास्थ्य, संपत्ति तथा समृद्धि प्रदान कर सकता है। कुछ ज्योतिषी यह मानते हैं …

दुर्धरा योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Duddhara Yoga – vaidik jyotish Shastra Read More »