;

10 मुखी रुद्राक्ष

nau mukhee rudraaksh - sahee rudraaksh pahanakar karen kaalasarp dosh nivaaran

नौ मुखी रुद्राक्ष – सही रुद्राक्ष पहनकर करें कालसर्प दोष निवारण – सत्रहवाँ दिन – Day 17 – 21 Din me kundli padhna sikhe – nau mukhee rudraaksh – sahee rudraaksh pahanakar karen kaalasarp dosh nivaaran – Satrahavaan Din

अष्टम भाव में कालसर्प योग बन रहा हो तो नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करें। नौ मुखी रुद्राक्ष – सही रुद्राक्ष पहनकर करें कालसर्प दोष निवारण – nau mukhee rudraaksh – sahee rudraaksh pahanakar karen kaalasarp dosh nivaaran – सत्रहवाँ दिन – Day 17 – 21 Din me kundli padhna sikhe – Satrahavaan Din

namank 8 - var vadhu ke namank ka phal

नामांक 8 – वर वधू के नामांक का फल – पंद्रहवां दिन – Day 15 – 21 Din me kundli padhna sikhe – namank 8 – var vadhu ke namank ka phal – Pandrahavaan Din

आठ नामांक का वर 5, 6 अथवा 7 नामांक की कन्या के साथ विवाह करता है तो दोनों सुखी होते हैं। 2 अथवा 3 नामांक की कन्या से विवाह करता है तो वैवाहिक जीवन सामान्य बना रहता है जबकि अन्य नामांक की कन्या से विवाह करता है तो परेशानी आती है। नामांक 8 – वर …

नामांक 8 – वर वधू के नामांक का फल – पंद्रहवां दिन – Day 15 – 21 Din me kundli padhna sikhe – namank 8 – var vadhu ke namank ka phal – Pandrahavaan Din Read More »

namank 5 - var vadhu ke namank ka phal

नामांक 5 – वर वधू के नामांक का फल – पंद्रहवां दिन – Day 15 – 21 Din me kundli padhna sikhe – namank 5 – var vadhu ke namank ka phal – Pandrahavaan Din

5 नामांक के वर के लिए 1, 2, 5, 6, 8 नामांक की कन्या उत्तम रहती है। चतुर्थ और सप्तम नामांक की कन्या से साथ गृहस्थ जीवन मिला जुला रहता है जबकि अन्य नामांक की कन्या होने पर गृहस्थ सुख में कमी आती है। नामांक 5 – वर वधू के नामांक का फल – namank …

नामांक 5 – वर वधू के नामांक का फल – पंद्रहवां दिन – Day 15 – 21 Din me kundli padhna sikhe – namank 5 – var vadhu ke namank ka phal – Pandrahavaan Din Read More »

namank 4 - var vadhu ke namank ka phal

नामांक 4 – वर वधू के नामांक का फल – पंद्रहवां दिन – Day 15 – 21 Din me kundli padhna sikhe – namank 4 – var vadhu ke namank ka phal – Pandrahavaan Din

4 अंक का पुरूष हो और कन्या 2, 4, 5 अंक की हो तब गृहस्थ जीवन उत्तम रहता है। चतुर्थ वर और षष्टम या अष्टम कन्या होने पर वैवाहिक जीवन में अधिक परेशानी नहीं आती है। 4 अंक के वर की शादी इन अंकों के अलावा अन्य अंक की कन्या से होने पर गृहस्थ जीवन …

नामांक 4 – वर वधू के नामांक का फल – पंद्रहवां दिन – Day 15 – 21 Din me kundli padhna sikhe – namank 4 – var vadhu ke namank ka phal – Pandrahavaan Din Read More »