best brahmacharya yoga in vrat

व्रतों में श्रेष्ठ ब्रह्मचर्य योग – ब्रह्मचर्य विज्ञान | Best Brahmacharya Yoga in Vrat – brahmacharya vigyan

  अष्टांग योग के प्रथम अंग यम का चतुर्थ चरण है ब्रह्मचर्य (brahmacharya yoga)। सिद्धि या सफलता प्राप्त करने के लिए यह अति आवश्यक है। ब्रह्मचर्य का पालन करना सर्वाधिक कठिन माना गया है। ब्रह्मचर्य का अर्थ भी व्यापक है। आमतौर पर गुप्तेंद्रियों पर संयम रखना ही ब्रह्मचर्य माना जाता है जबकि ब्रह्मचर्य का शाब्दिक …

व्रतों में श्रेष्ठ ब्रह्मचर्य योग – ब्रह्मचर्य विज्ञान | Best Brahmacharya Yoga in Vrat – brahmacharya vigyan Read More »