Chhati par bal na hona

purushon ke shareer par baal

पुरुषों के शरीर पर बाल – पुरूष शरीर के रहस्य – purushon ke shareer par baal – purush sharir ke rahasya

शरीर पर घने बाल है यह एक दुखी जीवन को दर्शाता है,अगर बाल पतले है तो आदमी कष्टो सामना करता है और जीवन को शुखमयी रह पर चलता है पुरुषों के शरीर पर बाल – purushon ke shareer par baal – पुरूष शरीर के रहस्य – purush sharir ke rahasya

chhati mein ek bhi baal na ho

छाती में एक भी बाल न हो – पुरूष शरीर के रहस्य – chhati mein ek bhi baal na ho – purush sharir ke rahasya

यदि किसी व्यक्ति की छाती में एक भी बाल न हो, वह मनुष्य विश्वास के लायक नहीं होता है। ये दूसरों की बातें जानने में माहिर होते है, परन्तु अपनी बातों को गुप्त रखेंगे। इनकी पत्नी स्पष्टवादी एंव व्यवहारिक होती है। छाती में एक भी बाल न हो – chhati mein ek bhi baal na …

छाती में एक भी बाल न हो – पुरूष शरीर के रहस्य – chhati mein ek bhi baal na ho – purush sharir ke rahasya Read More »

chhati par adhik baal ho

छाती पर अधिक बाल हो – पुरूष शरीर के रहस्य – chhati par adhik baal ho – purush sharir ke rahasya

जिस व्यक्ति की छाती पर अधिक बाल हो, वह मनुष्य शारीरिक रूप से मजुबूत व बलिष्ट होता है परन्तु यदि ये शराब आदि का सेंवन करने लगे तो, इनका शरीर व धन सब बर्बाद हो सकता है। ये पुरूष भाग्य के सहारे अचानक धन प्राप्ति के फिराक में लगे रहते है। छाती पर अधिक बाल …

छाती पर अधिक बाल हो – पुरूष शरीर के रहस्य – chhati par adhik baal ho – purush sharir ke rahasya Read More »

chhaatee uaichee va pust - striyon ke chhati mein chhupe raaj

छाती उॅची व पुष्ट – स्त्रियों के छाती में छिपे राज – महिला शरीर के रहस्य – chhaatee uaichee va pust – striyon ke chhati mein chhupe raaj – mahila sharir ke rahasya

जिस स्त्री की छाती उॅची व पुष्ट हो, वह स्त्री अनेक प्रकार के सुखों को भोगने वाली होती है एंव धनधान्य व ऐश्वर्य से परिपूर्ण होती है। ऐसी स्त्रीयां अपने पति को सुख देने वाली होती है। समाजिक कार्यो मे भी इनकी रूचि होती है। छाती उॅची व पुष्ट – स्त्रियों के छाती में छिपे …

छाती उॅची व पुष्ट – स्त्रियों के छाती में छिपे राज – महिला शरीर के रहस्य – chhaatee uaichee va pust – striyon ke chhati mein chhupe raaj – mahila sharir ke rahasya Read More »