ashwini nakshatra

अश्विनी नक्षत्र – राशि रत्न | Ashwini nakshatra – Rashi Ratna – Zodiac Stones

 

इस नक्षत्र के देव अश्विनी कुमार और स्वामी केतु है | इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक उत्साही और उमंगवान होते हैं | सृजनात्मक कार्य करते हैं | इस राशि और इस नक्षत्र में जन्म लेने वालों का शारीरिक और मानसिक विकास अच्छा होता हैं | इस नक्षत्र का स्वामी केतु होने के कारण इनका काम अचानक बनता है या बिगड़ता है | ये क्रोध ज्यादा करते हैं | ये आर्युवेद में विश्वास करते हैं |

भरणी नक्षत्र :इस नक्षत्र के देव यमराज और स्वामी शुक्र है | इस राशि के दुर्गुणों कि वजह से इन्हे क्रोध ज्यादा आता है और शारीरिक सुख मे रुचि रहती है | नक्षत्र का स्वामी शुक्र होने कि वजह से ये विलासी प्रवृत्ति के होते है |संबधों का कारक शुक्र होने की वजह से संबंध बिगड़ते नही है | या तो अधिक दोस्त होते है या कम मित्रोंसे गहरी दोस्ती होती है | त्वचा पर चमक पायी जाती है | यदि कामप्रवृत्ति घटती है तो चेहरे की चमक और बढ़ती है |

संपूर्ण चाणक्य निति
संपूर्ण चाणक्य निति
Tags: , , , , , , , ,

Leave a Comment