;
deeds and gems

कर्म भाव और रत्न – राशि रत्न | Deeds and gems – Rashi Ratna – Zodiac Stones

 

कर्म से ही भाग्य चमकता है. कहा भी गया है “जैसी करनी वैसी भरनी” ज्योतिष की दष्टि से कहें तो जैसा कर्म हम करते हैं भाग्य फल भी हमें वैसा ही मिलता है. भाग्य को पब्रल बनाने में कर्म का महत्वपूर्ण स्थान होता है. भाग्य भाव उत्तम हो और कर्म भाव पीड़ित तो इस स्थिति भाग्य फल बाधित होता है. कुण्डली में दशम भाव कर्म भाव होता है. अगर कुण्डली में यह भाव पीड़ित हो अथवा इस भाव का स्वामी कमज़ोर हो तो सम्बन्धित भाव स्वामी एवं लग्नेश का रत्न पहनाना मंगलकारी होता है. 

Tags: , , , , , , , ,

Leave a Comment