इस्लामी ताबीज आखिर क्या होती है?

इस्लामी ताबीज आखिर क्या होती है? नुकसान, मान्यता एतिहास

इस्लामी ताबीज : किसी मंत्र या आयत का पाठ करने के बाद गले या हाथ में रोग या बाधा को दूर करने के लिए जो धागा बांधा जाता है, उसे गंडा कहते हैं, जबकि कागज, ताड़ के पत्ते या भोजपत्र पर मंत्र लिखकर आधा इंच के टुकड़े से बांध दिया जाता है। पीतल, लोहा, चांदी या तांबा। वह वस्तु जो गले में लटकती हो या डिब्बे में बंद करके बाजू में बाँधी जाती हो, ताबीज या ताबीज कहलाती है। ताबीज को अंग्रेजी में ताबीज या ताबीज और हिंदी में कवच कहा जाता है। अब सवाल यह उठता है कि यह गांठ या ताबीज कितनी सही है या इसे बांधना चाहिए या नहीं।

इस्लामी ताबीज आखिर क्या होती है?
इस्लामी ताबीज आखिर क्या होती है?


गंडा-ताबीज हर देश और धर्म में मिलेगा। चर्च, दरगाह, मस्जिद, मंदिर, आराधनालय, बौद्ध मठ आदि सभी के पुजारी किसी न किसी प्रकार का गंडा-ताबीज देकर लोगों के कष्टों को दूर करने का प्रयास करते हैं। हालांकि, कई तथाकथित बाबा, संत और रहस्यवादी हैं जो इसके नाम पर लोगों को ठगते हैं। यह एक तरह का प्लेसबो है। इसे हिंदी में कूट भाषाज कहते हैं। यह वह्मा को ठीक करने के लिए एक चिकित्सा माना जाता है और यदि वास्तव में वहम नहीं है तो कोई बीमारी या कोई संकट नहीं है तो यह अप्रभावी है। यह व्यक्ति के विश्वास पर काम करता है।

ये भी पढ़े :   भय को दूर करें ऐसे - सिद्ध टोटके - bhay ko door karen aise - sidh totke

इस्लामी ताबीज का नुकसान क्या है?

इस्लामी ताबीज का नुकसान एस प्रकार है, मनमाने तरीके से या किसी अपवित्र ओझा, तांत्रिक, रहस्यवाद, मौलवी या सड़क किनारे ताबीज बेचने वाले से प्राप्त गंडा या ताबीज भी आपको नुकसान पहुंचा सकता है। इन गंदे ताबीज की शुद्धता का विशेष ध्यान रखना पड़ता है, नहीं तो ये आपके लिए हानिकारक साबित होते हैं। जो लोग इन्हें पहनते हैं, शराब आदि का नशा करते हैं या किसी अशुद्ध स्थान पर चले जाते हैं, उनका जीवन कष्टमय हो जाता है।
गंडे या ताबीज व्यापक रूप से हत्या, उत्थान, कैद, भूतों की मुक्ति, बाधाओं या धर्मांतरण आदि के लिए उपयोग किया जाता है। समाचार पत्रों में आकर्षक विज्ञापन या किसी अन्य धार्मिक उपदेशक की बातें सुनकर आम लोग उनके जाल में पड़ जाते हैं।

आगे पढिए : ताबीज कैसे बनाते है

इस्लामी ताबीज की मान्यता क्या है?

इस्लामी ताबीज की मान्यता कुछ एस प्रकार है, मान्यता के अनुसार शुभ, शुभ गुंडे-ताबीज प्रभावी होते हैं। ऐसा कहा जाता है कि गंडा बांधने या गले में ताबीज धारण करने से सभी प्रकार की बाधाओं से बचा जा सकता है। गंडा-तावीज़ का प्रयोग बुरी नज़र को दूर करने, भूत-प्रेत या मन के भय को दूर करने या किसी भी प्रकार की परेशानी से बचने के लिए किया जाता है। अगर आपके मन में यह विश्वास है कि यह गण्डा-ताबीज मेरा भला करेगा, तो निश्चय ही आपको भय से मुक्ति मिलेगी। लेकिन यह एक झूठी सांत्वना के अलावा और कुछ नहीं है।

ये भी पढ़े :   पारिवारिक सुख-शांति के लिए - सिद्ध टोटके - paarivaarik sukh-shaanti ke liye - sidh totke

प्राचीन काल से ताबीज दो प्रकार के होते हैं। एक पर्सनल और दूसरा जनरल। व्यक्तिगत व्यक्ति के शरीर पर पहना जाता है जबकि सामान्य को मंदिर या घर के प्रवेश द्वार, दीवार, गांव के प्रवेश द्वार और चौराहे पर लगाया जाता है जिसे कवच कहा जाता है।

Kundli dosh nivaran in hindi

इस्लामी ताबीज का एतिहास क्या है?

गुंडे ताबीज का इतिहास इतिहासकारों का मानना ​​है कि ताबीज का प्रयोग प्रागैतिहासिक काल से ही प्रचलित रहा है। हालांकि उस दौर से लेकर अब तक इसका नाम बदलता रहा, लेकिन यह किसी न किसी रूप में गंडा जरूर रहा है। पहले लोग पत्थर, बीज, फल, जड़ या पवित्र वस्तु का कुछ रंगीन टुकड़ा अपने पास रखते थे क्योंकि कहीं न कहीं यह मेरे परिवार या मेरे मवेशियों की रक्षा करता था। बाद में शरीर पर इसी तरह की वस्तुओं को बांधने की प्रथा शुरू हुई। बाद में इस प्रथा को समाज के पुरोहित वर्ग द्वारा धार्मिक रूप दिया गया। कहा जाता है कि प्राचीन मोसोपोटामिया के लोगों में ताबीज को लेकर काफी प्रथा थी। मिस्र के मकबरों में ताबीज भी मिले हैं।

भारत में ताबीज बांधने की प्रथा मध्यकाल में अधिक थी। पहले भारत में कवच मंत्र का जाप करके नाडा बांधने की प्रथा थी। कहा जाता है कि अरब, रोम और यूनान के लोगों में अथर्ववेद की कई बातें प्रचलित थीं। वहां ताबीज बांधने की प्रथा अधिक थी। अथर्व वेद (10.6.2–3) में हल से बने ताबीज का उल्लेख मिलता है। शतपथ ब्राह्मण (13-2.2.16-19) में भी इसका उल्लेख है।

ये भी पढ़े :   अपनाएं सुखी रहने के कुछ नुस्खे - सिद्ध टोटके - apanaen sukhee rahane ke kuchh nuskhe - sidh totke

क्या कहती है लाल किताब इस्लामी ताबीज के बारे में?

क्या कहती है लाल किताब : लाल किताब ग्रहों की विशेष स्थिति के अनुसार व्यक्ति को किसी भी संत या मुनि से गंडा ताबीज लेने की मनाही होती है। भुजा का अर्थ होता है कुंडली का बल, यहां आपको कोई भी वस्तु पहननी चाहिए या नहीं, कौन सी धातु की वस्तु पहननी चाहिए या नहीं, यह माना जाता है। उसी तरह आपका कंठ कुंडली का लग्न है। गले में ताबीज या लॉकेट पहनना चाहिए या नहीं यह एक बहस का विषय है।

गला हमारा लग्न स्थान है और लॉकेट पहनने से हमारे दिल और फेफड़ों पर असर पड़ता है। इसलिए लॉकेट केवल तीन प्रकार की धातु पीतल, चांदी और तांबे का ही धारण करना चाहिए। सोना बुद्धिमानी से पहनें। यह देखना भी जरूरी है कि यह किस तरह का लॉकेट है। हनुमानजी का लॉकेट ही बनवाएं या धारण करें। इसके अलावा आप सिर्फ एक गोल मेटल लॉकेट भी पहन सकती हैं। धातु का गोल होना जरूरी है क्योंकि यह आपके चारों ओर ऊर्जा के चक्र को ठीक कर देगा। इसके और भी कई फायदे हैं। हालांकि ताबीज और लॉकेट किसी विशेषज्ञ से लाल किताब में पूछकर ही पहनना चाहिए।

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , ,