हनुमान मंत्र से ब्रह्मराक्षस से छुटकारा

हनुमान मंत्र से ब्रह्मराक्षस से छुटकारा – हनुमान सिद्धि मंत्र

हनुमान मंत्र से ब्रह्मराक्षस से छुटकारा : भक्तों का मानना ​​है कि हनुमानजी एक समस्या समाधानकर्ता हैं, उन्हें प्रसन्न करके संकट को दूर किया है। हर मंगलवार को आप भक्त हनुमान की पूजा करते हैं, जो उन्हें विभिन्न तरीकों से प्रसन्न करते हैं। आइए जानते हैं कि ऐसा क्या करें ताकि हनुमान जी की कृपा हम पर निर्भर हो।

हनुमान मंत्र से ब्रह्मराक्षस से छुटकारा
हनुमान मंत्र से ब्रह्मराक्षस से छुटकारा

क्या आप जानते हैं कि भगवान हनुमान एक चुटकी सिंदूर, मिठाई, लाल कपड़े में महावीर की पूजा करते हुए, सुंदरकांड का पाठ करते हुए और रामायण शास्त्र का दान करते हुए प्रसन्न होते हैं, हुहू जल्द से जल्द हुहू को हटा देता है। हनुमान श्री राम के अनन्य भक्त हैं। हनुमानजी तुरंत प्रसन्न होने वाले देवताओं में से एक हैं। गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित श्री रामचरित मानस के अनुसार माता सीता ने पवनपुत्र हनुमानजी को अमरत्व प्रदान किया था। इस वरदान के प्रभाव के साथ, उन्होंने अष्टचिरंजीवी को भी शामिल किया।

ये भी पढ़े :   बुध शांति - मंत्र से उपचार | Mercury peace - mantra se upchar

जल्द प्रसन्न होने वाले हनुमान जी की पूजा में निम्न सावधानियां रखना बहुत महत्वपूर्ण है: – ब्रह्म पूजा के दौरान, ब्रह्मचर्य और संयम रखें। याद रखें कि जो भी प्रसाद हनुमान को शुद्ध होना चाहिए। हनुमानजी की पूजा के लिए केवल घी या चमेली के तेल का दीपक ही अच्छा है। भगवान हनुमान को लाल फूल बहुत पसंद हैं। वे केवल पूजा में लाल फूल चढ़ाते हैं। भगवान हनुमान की मूर्ति को पानी और पंचनामा से स्नान करने के बाद, तिल के तेल के साथ दीया लगाने से उन्हें खुशी होगी। हनुमानजी का ध्यान हमेशा पूर्व की ओर करना चाहिए।

मनुष्य शारीरिक, मानसिक और बाह्य आंखों आदि जैसी बीमारियों से ग्रस्त है। शारीरिक बीमारी के लिए डॉक्टर या चिकित्सक के पास जाने से व्यक्ति ठीक हो जाता है। मानसिक बीमारी एक सरल उपाय है। लेकिन जब कोई व्यक्ति किसी दुष्ट या दुष्ट आत्मा के जाल में फंस जाता है, तो वह बेचैन हो जाता है।

ये भी पढ़े :   गृह बाधा शान्ति शाबर मन्त्र - किस समस्या के लिए कौन से मंत्र का जाप करें - grah badha shanti shabar mantra - mantra ka jaap

इसका इलाज करने के लिए, स्वयं और परिवार हर जगह जाते हैं – एक तकनीकी, मानसिक, ज्ञानवान व्यक्ति की तरह। लेकिन रोगी ठीक नहीं होता है। मरीज की हालत बिगड़ने लगती है। रोगी शारीरिक और मानसिक व्याधियों से पीड़ित प्रतीत होता है।

ऐसी स्थिति में हनुमान के पुत्र की पूजा करें। रोगी निश्चित रूप से ठीक हो जाएगा। यहां हम आपको हनुमान मंत्र से ब्रह्मराक्षस से छुटकारा (जंजीरा) दे रहे हैं। जो इक्कीस दिन में सिद्ध हो गया। इसे साबित करके, दूसरों और उनकी लाशों, दृष्टि आदि की मदद करें।

हनुमान मंत्र से ब्रह्मराक्षस से छुटकारा (जंजीरा)

ॐ हनुमान पहलवान पहलवान, बरस बारह का जबान,
हाथ में लड्‍डू मुख में पान, खेल खेल गढ़ लंका के चौगान,
अंजनी‍ का पूत, राम का दूत, छिन में कीलौ,
नौ खंड का भू‍त, जाग जाग हड़मान,
हुँकाला, ताती लोहा लंकाला, शीश जटा,
डग डेरू उमर गाजे, वज्र की कोठड़ी ब्रज का ताला,
आगे अर्जुन पीछे भीम, चोर नार चंपे,
ने सींण, अजरा झरे भरया भरे, ई घट पिंड,
की रक्षा राजा रामचंद्र जी लक्ष्मण कुँवर हड़मान करें।

इस मंत्र का जाप प्रतिदिन करने से मंत्र सिद्ध होता है। साधक को हनुमान मंदिर में जाकर धूप जलानी चाहिए। इक्कीसवें दिन उसी मंदिर में नारियल और लाल कपड़े का झंडा चढ़ाएं। जप करते समय अलौकिक चमत्कारों का अनुभव करने से डरो मत। यह मंत्र भूत, राक्षस, सपने, आंख, ड्रिप और शरीर की रक्षा करने में बेहद सफल है।

ये भी पढ़े :   पक्षाघात रोग - मंत्र से उपचार | Paralysis disease - mantra se upchar

उपद्रव शांत करने का मंत्र

मुसीबत को शांत करने के लिए देवी चक्रेश्वरी की पूजा करें। निम्नलिखित मंत्र के 21 दिनों तक प्रतिदिन 10 माला जप करें। 21 दिनों के बाद, एक माला रोजाना करें। यह मंत्र अत्यंत लाभकारी है। इससे जो भी गलत होगा वह शांत हो जाएगा।

ॐ ह्रीं श्रीं चक्रेश्वरी, चक्रवारुणी,
चक्रधारिणी, चक्रवे गेन मम उपद्रवं
हन-हन शांति कुरु-कुरु स्वाहा।

संपूर्ण चाणक्य निति
संपूर्ण चाणक्य निति
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Comment