मूत्र रोग का क्या कारण है? मूत्र रोग का आयुर्वेदिक उपचार – घरेलू उपचार

मूत्र से संबंधित बीमारी महिलाओं और पुरुषों दोनों को होती है। मूत्र बनाने के लिए किडनी न केवल हमारे शरीर में काम करती है, बल्कि इसके अन्य कार्य भी हैं। जैसे रक्त की शुद्धि, शरीर में पानी का संतुलन, अम्ल और क्षार का संतुलन, रक्तचाप पर नियंत्रण, रक्त कणों के उत्पादन में सहयोग और हड्डियों को मजबूत करना आदि। लेकिन यहाँ लोगों में जागरूकता की कमी के कारण ऐसी समस्याएं देखी जाती हैं। लोगों में बहुत अधिक। आइए हम मूत्र रोने के कारणों, लक्षणों और घरेलू उपचारों को समझने की कोशिश करें।

मूत्र रोग का क्या कारण है?
जैसा कि हर बीमारी के अपने उचित कारण होते हैं। इसी तरह, मूत्र विकारों के कई कारण हैं। इसका सबसे बड़ा कारण बैक्टीरिया और कवक है। इनके कारण मूत्र मार्ग के अन्य भागों जैसे किडनी, मूत्रवाहिनी और प्रोस्टेट ग्रंथि और योनि में इस संक्रमण का प्रभाव देखा जाता है।

मूत्र विकार के लक्षण
मूत्र रोग के मुख्य लक्षण हैं- तेज बदबूदार पेशाब, पेशाब के रंग में बदलाव, पेशाब में जलन और पेशाब में जलन, कमजोरी का अहसास, शरीर में कमजोरी, पेट में दर्द और बुखार आदि। इसके अलावा, पास होने की इच्छा होती है। हर समय पेशाब होना। मूत्र पथ की जलन बनी रहती है। मूत्राशय सूज जाता है। यह रोग पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक पाया जाता है। गर्भवती महिलाओं और यौन-सक्रिय महिलाओं में मूत्र रोग अधिक पाया जाता है।

ये भी पढ़े :   पीलिया का घरेलू उपचार - पुरुष रोग का घरेलू उपचार - peeliya ka ghareloo upchaar - purush rog ka gharelu upchar

मूत्र रोग का आयुर्वेदिक उपचार

  1. पहला प्रयोग
    यदि आप केले की जड़ के 20 से 50 मिलीलीटर लेते हैं। रस 30 से 50 मिलीलीटर होना चाहिए। 100 मिली पानी को धुंध के साथ मिलाकर और पीसकर और छालों पर लगाने से मूत्र आसानी से निकलता है।
  2. दूसरा प्रयोग
    शिलाजीत, कपूर के साथ आधा से 2 ग्राम शुद्ध और 1 से 5 ग्राम गन्ने को मिलाकर या कलमी चोरा के साथ पाव टोला (3 ग्राम) लेना भी फायदेमंद होता है।
  3. तीसरा प्रयोग
    मूत्र रोग को दूर करने के लिए एक भाग चावल को चौदह भाग पानी में पकाएं और उन चावलों के स्टार्च का सेवन करें क्योंकि यह मूत्र रोग में मदद करता है। इसके अलावा कमर तक गर्म पानी में बैठने से भी पेशाब की रुकावट दूर होती है।
  4. चौथा प्रयोग
    आप चाहें तो उबले हुए दूध में मिश्री और थोड़ा सा घी मिलाकर पीने से पेशाब की रुकावट दूर होती है। ध्यान रखने वाली बात यह है कि इसका उपयोग बुखार में नहीं करना चाहिए।
  5. पाँचवाँ प्रयोग
    इस विधि में 50-60 ग्राम करेले के पत्तों के रस में एक चुटकी हींग देने से पेशाब आसानी से निकल जाता है और पेशाब जाने की समस्या से राहत मिलती है या 100 ग्राम बकरी का कच्चा दूध 1 लीटर पानी और चीनी के साथ पीने से आराम मिलता है।
ये भी पढ़े :   कान दर्द के घरेलू उपचार - पुरुष रोग का घरेलू उपचार - kaan dard ke ghareloo upchaar - purush rog ka gharelu upchar

मूत्र से संबंधित अन्य घरेलू उपचार

  1. ककड़ी ककड़ी
    यदि एक बड़ा चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच शहद को 200 मिली ककड़ी के रस में मिलाकर हर तीन घंटे के अंतराल पर दिया जाए तो रोगी को आराम मिलता है।
  2. मूली के पत्तों का रस
    मूत्र विकार में रोगी को मूली के पत्तों का 100 मिलीलीटर रस दिन में 3 बार लेना चाहिए। यह रामबाण की तरह काम करता है। इसके अलावा आप तरल पदार्थों का सेवन भी कर सकते हैं।
  3. नींबू
    नींबू स्वाद में थोड़ा खट्टा और थोड़ा क्षारीय होता है। नींबू का रस मूत्राशय में मौजूद बैक्टीरिया को नष्ट करता है और मूत्र में आने वाले रक्त की स्थिति में भी राहत देता है।
  4. पालक
    पालक का 125 मिली रस, नारियल पानी में मिलाकर रोगी को देने से पेशाब की जलन में तुरंत लाभ होगा।
  5. गाजर
    पेशाब की जलन में राहत पाने के लिए आधा गिलास गाजर का रस और आधा गिलास पानी दिन में दो बार पीने से लाभ मिलता है।
  6. मट्ठा
    एक गिलास मट्ठे में आधा गिलास जौ मिलाएं और इसमें 5 मिलीलीटर नींबू का रस मिलाएं। इससे मूत्र संबंधी रोग नष्ट हो जाते हैं।
  7. ओकरा
    भिंडी को पानी की दो परतों में बारीक काट लें, फिर इसे छान लें और इस काढ़े को दिन में दो बार पीने से मूत्राशय के कारण होने वाले पेट दर्द से राहत मिलती है।
  8. सौंफ
    सौंफ के पानी को उबालकर ठंडा करके दिन में तीन बार पीने से मूत्र रोग में आराम मिलता है।
ये भी पढ़े :   स्नायु रोग - मंत्र से पुरुष रोग का उपचार - snayu rog - mantr se purush rog ka upachar
संपूर्ण चाणक्य निति
संपूर्ण चाणक्य निति
Tags: , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Comment