धनिष्ठा नक्षत्र एंड मैरिज

sakaaraatmak paksh jyeshtha nakshatr mein janme vyakti ka bhavishyaphal

सकारात्मक पक्ष ज्येष्ठा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल – ज्येष्ठा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल – On the positive side Jyeshtha born constellation person Forecast – sakaaraatmak paksh jyeshtha nakshatr mein janme vyakti ka bhavishyaphal

इस नक्षत्र में जन्मे जातक यदि उत्तम चरित्र रखते हैं तो बहुत ही ऊंचाइयों पर जाते हैं। उदाहरण के लिए मुख्‍य प्रबंधक, सीईओ, कप्तान, कमांडर, लीडर आदि होते हैं। ये खान श्रमिक, इंजीनियर, पुलिस और रक्षाकर्मी भी हो सकते हैं। साहस, रहमदिल, परिश्रम, नेतृत्व शक्ति और समस्याओं को सुलझाने में माहिर। ये प्राथमिकता और अनुभव …

सकारात्मक पक्ष ज्येष्ठा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल – ज्येष्ठा नक्षत्र में जन्मे व्यक्ति का भविष्यफल – On the positive side Jyeshtha born constellation person Forecast – sakaaraatmak paksh jyeshtha nakshatr mein janme vyakti ka bhavishyaphal Read More »

mesh ka raahu shatabhisha

मेष का राहु शतभिषा – शतभिषा – Aries Rahu shatabhisha – mesh ka raahu shatabhisha

मेष का राहु हो तो ऐसे जातक प्रबल रूप से शत्रुहंता होता है। गुप्त विद्या में सफलता मिलती है। संतान के मामलों में बाधा भी आती है। राहु मेष लग्न में षष्ठभाव में हो तो शत्रुहंता होगा। mesh ka raahu shatabhisha – मेष का राहु शतभिषा – मेष का राहु शतभिषा – Aries Rahu shatabhisha …

मेष का राहु शतभिषा – शतभिषा – Aries Rahu shatabhisha – mesh ka raahu shatabhisha Read More »

mithun lagn shatabhisha

मिथुन लग्न शतभिषा – शतभिषा – Gemini ascendant shatabhisha – mithun lagn shatabhisha

मिथुन लग्न में नक्षत्र स्वामी राहु लग्न में ऐसे हो तो राजनीति में उत्तम सफलता पाते हैं। वकालत में भी सफल होते हैं। चतुर्थ भाव में हो तो स्थानीय राजनीति में उत्तम सफलता मिलती है। तृतीय भाव में हो तो शत्रुहंता होगा। शनि की स्थिति में शनि में लग्न, चतुर्थ, नवम, पंचम में हो तो …

मिथुन लग्न शतभिषा – शतभिषा – Gemini ascendant shatabhisha – mithun lagn shatabhisha Read More »

kark lagn shatabhisha

कर्क लग्न शतभिषा – शतभिषा – Cancer ascendant shatabhisha – kark lagn shatabhisha

कर्क लग्न में नक्षत्र स्वामी दशम में हो तो ऐसे राजनीतिक गु्रु विद्या में सफल होते हैं। राहु की स्थिति तृतीय, एकादश, सप्तम में ठीक रहेगी। राशि स्वामी भी यदि मित्र स्वराशि का हो तो परिणाम भी शुभ मिलेंगे। kark lagn shatabhisha – कर्क लग्न शतभिषा – कर्क लग्न शतभिषा – Cancer ascendant shatabhisha  

vrshchik lagn shatabhisha

वृश्चिक लग्न शतभिषा – शतभिषा – Scorpio ascendant shatabhisha – vrshchik lagn shatabhisha

वृश्चिक लग्न में राहु दशम, एकादश, चतुर्थ, तृतीय भाव में शुभफलदायी रहेगा। वहीं शनि की स्थिति सप्तम, एकादश, तृतीय भाव में नवम में हो तो ठीक रहेगा वहीं शनि दशम में सप्तम, द्वितीय, तृतीय, एकादश में शुभफलदायी रहेगा। vrshchik lagn shatabhisha – वृश्चिक लग्न शतभिषा – वृश्चिक लग्न शतभिषा – Scorpio ascendant shatabhisha  

makar lagn shatabhisha

मकर लग्न शतभिषा – शतभिषा – Capricorn ascendant shatabhisha – makar lagn shatabhisha

मकर लग्न में राहु षष्ठ, पंचम, लग्न, नवम में शनि दशम लग्न नवम षष्ठ में शुभफलदायी रहेगा। makar lagn shatabhisha – मकर लग्न शतभिषा – मकर लग्न शतभिषा – Capricorn ascendant shatabhisha  

kumbh lagn shatabhisha

कुंभ लग्न शतभिषा – शतभिषा – Aquarius ascendant shatabhisha – kumbh lagn shatabhisha

कुंभ लग्न में राहु चतुर्थ, पंचम, लग्न, नवम, षष्ठ में शुभफलदायी रहेगा। कुंभ लग्न में राहु चतुर्थ, पंचम, सप्तम में शुभफलदायी रहेगा। शनि लग्न, चतुर्थ, पंचम, नवम में ठीक फल देगा। kumbh lagn shatabhisha – कुंभ लग्न शतभिषा – कुंभ लग्न शतभिषा – Aquarius ascendant shatabhisha  

vrshabh lagn uttara bhaadrapad

वृषभ लग्न उत्तरा भाद्रपद – उत्तरा भाद्रपद – Taurus ascendant Uttara Bhadrapad – vrshabh lagn uttara bhaadrapad

वृषभ लग्न में शनि की स्थिति लग्न, तृतीय, षष्ठ, नवम भाव में अति शुभ फलदायी होकर उच्च स्तर तक पहुँचने वाले होंगे। गुरु यदि मीन, कर्क, सिंह का हो तो और अधिक शुभ फलदायी होगा। गुरु सप्तम, दशम, तृतीय, एकादश में हो तो उत्तम फल मिलेंगे। ऐसा जातक कठिन परिस्थितियों से उभरकर उत्तम सफलता पाने …

वृषभ लग्न उत्तरा भाद्रपद – उत्तरा भाद्रपद – Taurus ascendant Uttara Bhadrapad – vrshabh lagn uttara bhaadrapad Read More »

mesh lagna dhanishta nakshatra

मेष लग्न धनिष्ठा नक्षत्र – धनिष्ठा नक्षत्र – Aries Ascendant dhanishta Star – mesh lagna dhanishta nakshatra

सशस्त्र स्वामी मंगल लग्न में गुरु भाग्येश की युति में हो तो ऐसे जातक स्वप्रयत्नों से सफलता पाते हैं। मंगल भाव में हो तो ऐसे जातक का भाग्य साथ देने वाला होता है। मंगल पंचम में भी शुभ फलदायी रहता है। mesh lagna dhanishta nakshatra – मेष लग्न धनिष्ठा नक्षत्र – मेष लग्न धनिष्ठा नक्षत्र …

मेष लग्न धनिष्ठा नक्षत्र – धनिष्ठा नक्षत्र – Aries Ascendant dhanishta Star – mesh lagna dhanishta nakshatra Read More »

kark lagna dhanishta nakshatra

कर्क लग्न धनिष्ठा नक्षत्र – धनिष्ठा नक्षत्र – Cancer ascendant dhanishta Star – kark lagna dhanishta nakshatra

मंगल दशम में हो तो पिता, राज्य, व्यापार से भाग्योदय होता है। माता-भूमि भवन से लाभ, नवम में हो तो भाग्य बलशाली होता है। षष्ठ में हो तो शत्रु न होकर भाग्यशाली, गुस्सैला भी हो सकता है। तृतीय एकादश में भी शुक्र फलदायी होगा। kark lagna dhanishta nakshatra – कर्क लग्न धनिष्ठा नक्षत्र – कर्क …

कर्क लग्न धनिष्ठा नक्षत्र – धनिष्ठा नक्षत्र – Cancer ascendant dhanishta Star – kark lagna dhanishta nakshatra Read More »