;

रोहिणी नक्षत्र

revatee nakshatr parichay

रेवती नक्षत्र परिचय – रेवती नक्षत्र – Revathi Constellation Introduction – revatee nakshatr parichay

रेवती नक्षत्र आकाश मंडल में अंतिम नक्षत्र है। यह मीन राशि में आता है। इसे दे, दो, चा, ची के नाम से जाना जाता है। रेवती नक्षत्र का स्वामी बुध है। बुध बुद्धि का कारक होने के साथ इसे वणिक ग्रह माना गया है। राशि स्वामी गुरु है। गुरु बुध की युति जिस भाव में …

रेवती नक्षत्र परिचय – रेवती नक्षत्र – Revathi Constellation Introduction – revatee nakshatr parichay Read More »

vrshabh lagn revatee nakshatr

वृषभ लग्न रेवती नक्षत्र – रेवती नक्षत्र – Taurus constellation wife Revathi – vrshabh lagn revatee nakshatr

वृषभ लग्न में बुध, द्वितीय, पंचम, नवम, चतुर्थ में हो व गुरु एकादश, तृतीय, चतुर्थ, सप्तम में हो तो शुभ फलदायी होकर उस जातक को विद्वान संतान से प्रसिद्धि दिलाता है। स्वयं भी प्रतिभाशाली होता है। vrshabh lagn revatee nakshatr – वृषभ लग्न रेवती नक्षत्र – वृषभ लग्न रेवती नक्षत्र – Taurus constellation wife Revathi …

वृषभ लग्न रेवती नक्षत्र – रेवती नक्षत्र – Taurus constellation wife Revathi – vrshabh lagn revatee nakshatr Read More »

mithun lagna revati nakshatra

मिथुन लग्न रेवती नक्षत्र – रेवती नक्षत्र – Gemini constellation wife Revathi – mithun lagna revati nakshatra

में नक्षत्र स्वामी बुध लग्न, चतुर्थ, तृतीय, नवम में गुरु तृतीय, षष्ठ, एकादश, सप्तम, दशम भाव में हो तो ऐसा जातक पत्नी, राज्य, पराक्रम से उन्नति पाता है। ऐसा जातक राजनीतिक भी होता है। mithun lagna revati nakshatra – मिथुन लग्न रेवती नक्षत्र – मिथुन लग्न रेवती नक्षत्र – Gemini constellation wife Revathi  

singh lagna revati nakshatra

सिंह लग्न रेवती नक्षत्र – रेवती नक्षत्र – Leo ascendant Revathi Constellation – singh lagna revati nakshatra

नक्षत्र स्वामी बुध एकादश भाव में हो तो ऐसा जातक धन-धान्य से पूर्ण होता हैं। लग्न, द्वितीय भाव में शुभ फलदायी रहेगा। राशि स्वामी गुरु लग्न, पंचम, नवम, चतुर्थ, द्वादश में हो तो ऐसा जातक भाग्यशाली, विद्वान, प्रभावशील सुख-संपन्न वाला होगा। singh lagna revati nakshatra – सिंह लग्न रेवती नक्षत्र – सिंह लग्न रेवती नक्षत्र …

सिंह लग्न रेवती नक्षत्र – रेवती नक्षत्र – Leo ascendant Revathi Constellation – singh lagna revati nakshatra Read More »

shravana nakshatra samshya

श्रवण नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Hearing Star – shravana nakshatra samshya

श्रवण नक्षत्र के देवता चंद्र को माना जाता है,जबकि वैज्ञानिक ष्टिकोण से अकवन के पेड को श्रवण नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और श्रवण नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अकवन वृक्ष की पूजा करते है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के खाली हिस्से में अकवन के पेड को लगाते …

श्रवण नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Hearing Star – shravana nakshatra samshya Read More »

revati nakshatra samshya

रेवती नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Revathi constellation – revati nakshatra samshya

रेवती नक्षत्र के देवता बुध को माना जाता है,जबकि वैज्ञानिक ष्टिकोण से महुआ के पेड को रेवती नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और रेवती नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग महुआ की पूजा करते है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के खाली हिस्से में महुआ के पेड को लगाते है …

रेवती नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Revathi constellation – revati nakshatra samshya Read More »

bharanee nakshatr ke jaatak ka vyaktitv

भरणी नक्षत्र के जातक का व्यक्तित्व – जन्म नक्षत्र का व्यक्तित्व पर प्रभाव – Personality native of Bharani constellation – bharanee nakshatr ke jaatak ka vyaktitv

नक्षत्रों की कड़ी में भरणी को द्वितीय नक्षत्र माना जाता है। इस नक्षत्र का स्वामी शुक्र ग्रह होता है। जो व्यक्ति भरणी नक्षत्र में जन्म लेते हैं वे सुख सुविधाओं एवं ऐसो आराम चाहने वाले होते हैं। इनका जीवन भोग विलास एवं आनन्द में बीतता है। ये देखने में आकर्षक व सुन्दर होते हैं। इनका …

भरणी नक्षत्र के जातक का व्यक्तित्व – जन्म नक्षत्र का व्यक्तित्व पर प्रभाव – Personality native of Bharani constellation – bharanee nakshatr ke jaatak ka vyaktitv Read More »

bahaadur hote hain mrgashira nakshatr ke jaatak

बहादुर होते हैं मृगशिरा नक्षत्र के जातक – जन्म नक्षत्र का व्यक्तित्व पर प्रभाव – Brave are Orion constellation native – bahaadur hote hain mrgashira nakshatr ke jaatak

वैदिक ज्योतिष में मूल रूप से २७ नक्षत्रों का जिक्र किया गया है। नक्षत्रों के गणना क्रम में मृगशिरा नक्षत्र का स्थान पांचवां है । इस नक्षत्र पर मंगल का प्रभाव रहता है क्योंकि इस नक्षत्र का स्वामी मंगलदेव होते है।जैसा कि हम आप जानते हैं व्यक्ति जिस नक्षत्र में जन्म लेता है उसके स्वभाव …

बहादुर होते हैं मृगशिरा नक्षत्र के जातक – जन्म नक्षत्र का व्यक्तित्व पर प्रभाव – Brave are Orion constellation native – bahaadur hote hain mrgashira nakshatr ke jaatak Read More »

magha nakshatra samsya

मघा नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Magha Nakshatra – magha nakshatra samsya

मघा नक्षत्र के देवता केतु को माना जाता है,जबकि वैज्ञानिक ष्टिकोण से बरगद के पेड को मघा नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और मघा नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग बरगद की पूजा करते है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के खाली हिस्से में बरगद के पेड को लगाते है, …

मघा नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Magha Nakshatra – magha nakshatra samsya Read More »

uttaraaphaalgunee nakshatr samsya

उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Uttrafalguni Star – uttaraaphaalgunee nakshatr samsya

उत्तराफल्गुनी नक्षत्र के देवता रवि को माना जाता है,जबकि वैज्ञानिक ष्टिकोण से रुद्राक्ष के पेड को उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग रुद्राक्ष वृक्ष की पूजा करते है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के खाली हिस्से में रुद्राक्ष के पेड को लगाते …

उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Uttrafalguni Star – uttaraaphaalgunee nakshatr samsya Read More »