;

स्टूडेंट को कितना घंटे पढ़ना चाहिए

padhaee ke liye

पढाई के लिए – किये कराये टोटको का निवारण हेतु उपाय – padhaee ke liye – kiye karaye totaka ka nivaran hetu upaay

अधिकतर पढाई करने के बाद सन्तान की नौकरी और व्यवसाय की चिन्ता हर माता पिता को होती है,बच्चे जवानी और अपनी उमंग के कारण उन्हे कौन से क्षेत्र में जाना है,उसे भूल जाते है,और दूसरों की देखा देखी अपनी वास्तविक नोलेज को भूलकर दूसरों के चक्कर में पड कर अपने को बरबाद कर लेते है,जब …

पढाई के लिए – किये कराये टोटको का निवारण हेतु उपाय – padhaee ke liye – kiye karaye totaka ka nivaran hetu upaay Read More »

raat ko adhik der tak nahin padhna chahiye

रात को आधिक देर तक नहीं पढ़ना चाहिए – आपके घर का वास्तु शास्त्र – raat ko adhik der tak nahin padhna chahiye – apke ghar ka vastu shastra

रात्रि को आधिक देर तक नहीं पढ़ना चाहिए क्योंकि इससे तनाव, चिड़चिड़ापन, क्रोध, दृषिट दोष, पेट रोग आदि समस्यायें होने की प्रबल आशंका रहती है। ब्रहममुहूर्त या प्रात:काल में 4 घन्टे अध्ययन करना राति्र के 10 घन्टे के बराबर होता है। क्योंकि प्रात:काल में स्वच्छ एंव सकारात्मक ऊर्जा संचरण होती है जिससे मन व तन …

रात को आधिक देर तक नहीं पढ़ना चाहिए – आपके घर का वास्तु शास्त्र – raat ko adhik der tak nahin padhna chahiye – apke ghar ka vastu shastra Read More »