4 घर में बृहस्पति

kundaliyon mein navam bhav brihaspati grah

कुण्डलियों में नवम भाव बृहस्पति गृह – चौदहवां दिन – Day 14 – 21 Din me kundli padhna sikhe – kundaliyon mein navam bhav brihaspati grah – Chaudahavaan Din

यदि कन्या धर्मपरायण है और वर विपरित प्रवृति का है तो भी बैमनस्य उत्पन्न हो सकता है। अत दोनों की कुण्डलियों में नवम भाव बृहस्पति गृह की स्थिति और बल का अवलोकन करना बी अति आवश्यक है। विवाह के उपरांत संतान की कामना भी स्वभाविक है। बृहस्पति गृह संतान का कारक ग्रह है। यदि वर …

कुण्डलियों में नवम भाव बृहस्पति गृह – चौदहवां दिन – Day 14 – 21 Din me kundli padhna sikhe – kundaliyon mein navam bhav brihaspati grah – Chaudahavaan Din Read More »

janm samay se upyog mein paaye jaane vaale karak

जन्म समय से उपयोग में लाये जाने वाले कारक – ग्यारहवाँ दिन – Day 11 – 21 Din me kundli padhna sikhe – janm samay se upyog mein paaye jaane vaale karak – Gyarahavaan Din

सही जन्म समय के मिलने के बाद लगन को सही बनाया जा सकता है लगन के अंशों के अनुसार अन्य भावों के बल का रूप समझा जाता है, सही जन्म समय होन से नवांश दसवांश आदि के लिये सही जानकारी मिल जाती है और सूक्ष्म से सूक्षम विवेचन करने और घटना को सही बताने के …

जन्म समय से उपयोग में लाये जाने वाले कारक – ग्यारहवाँ दिन – Day 11 – 21 Din me kundli padhna sikhe – janm samay se upyog mein paaye jaane vaale karak – Gyarahavaan Din Read More »