;

all yog in kundli

kya hai damaruka yoga?

क्या है दमरुका योग? – इन्द्रजाल में कैसे करें वशीकरण – kya hai damaruka yoga? – indrajaal mein kaise karen vashikaran

जन्म पत्रिका के यह सबसे असहनीय योगों में से एक है। प्राय: इस योग की चर्चा नहीं की जाती। यह एक ऐसा योग है, जिसको जानने के बाद व्यक्ति भयभीत हो जाता है। इसलिए प्राय: इस योग की सार्वजनिक चर्चा नहीं की जाती।इस योग में जन्म पत्रिका का अष्टम भाव कारक होता है। पत्रिका के …

क्या है दमरुका योग? – इन्द्रजाल में कैसे करें वशीकरण – kya hai damaruka yoga? – indrajaal mein kaise karen vashikaran Read More »

ekaadash vah pancham bhaav - sabhee bhaav ko kaal sarp yog ka shubhaashubh vivaran va upaay

एकादश व पंचम भाव – सभी भावों के कालसर्प योग का शुभाशुभ विवरण व उपाय – इक्कीसवाँ दिन – Day 21 – 21 Din me kundli padhna sikhe – ekaadash vah pancham bhaav – sabhee bhaav ko kaal sarp yog ka shubhaashubh vivaran va upaay – Ikkeesavaan Din

एकादश व पंचम भाव से कालसर्प योग के कारण जातक सन्तान पक्ष के कारण चिंतित, धन की परेशानी व असन्तोष बना रहता हैं।शुभ प्रभाव में लाटरी, शेयर द्वारा आकस्मिक धन लाभ, सौभाग्यशाली होता हैं। उपाय : राहु मंञ का जाप कराएँ और शिवलिंग पर चांदी क सर्प चढ़ाएँ। एकादश व पंचम भाव – सभी भावों …

एकादश व पंचम भाव – सभी भावों के कालसर्प योग का शुभाशुभ विवरण व उपाय – इक्कीसवाँ दिन – Day 21 – 21 Din me kundli padhna sikhe – ekaadash vah pancham bhaav – sabhee bhaav ko kaal sarp yog ka shubhaashubh vivaran va upaay – Ikkeesavaan Din Read More »

dasham bhav mein raahu - sabhee bhavon ke kaal sarp yog ka shubhaashubh vivaran va upaay

दशम भाव में राहु – सभी भावों के कालसर्प योग का शुभाशुभ विवरण व उपाय – इक्कीसवाँ दिन – Day 21 – 21 Din me kundli padhna sikhe – dasham bhav mein raahu – sabhee bhavon ke kaal sarp yog ka shubhaashubh vivaran va upaay – Ikkeesavaan Din

दशम भाव में राहु होने से यह योग बनता हैं। इसमें संघर्ष के बाद उन्नति होती हैं, पिता के सुख में कमी आती हैं। शुभ प्रभाव होने पर उच्च पद मिलता है तथा बड़े लोगो से, राजनितिक लोगो के सम्पर्क से धन लाभ होता है। उपाय : गोमेद नग सबसे बड़ी रिंग में धारण करें …

दशम भाव में राहु – सभी भावों के कालसर्प योग का शुभाशुभ विवरण व उपाय – इक्कीसवाँ दिन – Day 21 – 21 Din me kundli padhna sikhe – dasham bhav mein raahu – sabhee bhavon ke kaal sarp yog ka shubhaashubh vivaran va upaay – Ikkeesavaan Din Read More »

amala yog - aapakee kundalee mein shubh yog

अमला योग – आपकी कुंडली में शुभ योग – सत्रहवाँ दिन – Day 17 – 21 Din me kundli padhna sikhe – amala yog – aapakee kundalee mein shubh yog – Satrahavaan Din

अमला योग भी शुभ और महान योगों में से माना जाता है। यह योग तब बनता है जब जन्म पत्रिका में चन्द्रमा से दशम स्थान पर कोई शुभ ग्रह स्थित होता है। इस योग के साथ जन्म लेने वाला व्यक्ति अपने जीवन में धन, यश और कीर्ति हासिल करता है। अमला योग – आपकी कुंडली …

अमला योग – आपकी कुंडली में शुभ योग – सत्रहवाँ दिन – Day 17 – 21 Din me kundli padhna sikhe – amala yog – aapakee kundalee mein shubh yog – Satrahavaan Din Read More »

nrp yog - aapakee kundalee mein shubh yog

नृप योग – आपकी कुंडली में शुभ योग – सत्रहवाँ दिन – Day 17 – 21 Din me kundli padhna sikhe – nrp yog – aapakee kundalee mein shubh yog – Satrahavaan Din

नाम से ही ज्ञात होता है कि यह जिस व्यक्ति की कुण्डली में बनता है वह राजा के समान जीवन जीता है। इस योग का निर्माण तब होता है जब व्यक्ति की जन्म कुण्डली में तीन या उससे अधिक ग्रह उच्च स्थिति में रहते हैं। नृप योग – आपकी कुंडली में शुभ योग – nrp …

नृप योग – आपकी कुंडली में शुभ योग – सत्रहवाँ दिन – Day 17 – 21 Din me kundli padhna sikhe – nrp yog – aapakee kundalee mein shubh yog – Satrahavaan Din Read More »

hans yog - kundli mein rajyog

हंस योग – कुंडली में राज योग – दसवां दिन – Day 10 – 21 Din me kundli padhna sikhe – hans yog – kundli mein rajyog – Dasavan Din

बृहस्पति केंद्रस्थ होकर मूल त्रिकोण स्वगृही अथवा उच्च का हो तब “हंस योग” होता है। यह मानवीय गुणों से ओत-प्रोत, गैरंग, सुन्दर, हसमुख, मिलनसार, विनम्र होने के साथ, अपार धन-सम्पत्तिवान होता है। पुण्य कर्मों में रुचि रखने वाला, दयालु, कृपालु, शास्त्र का ज्ञान रखने वाला होता है। हंस योग – कुंडली में राज योग – …

हंस योग – कुंडली में राज योग – दसवां दिन – Day 10 – 21 Din me kundli padhna sikhe – hans yog – kundli mein rajyog – Dasavan Din Read More »

bhadr yog - kundalee mein raaj yog

भद्र योग – कुंडली में राज योग – दसवां दिन – Day 10 – 21 Din me kundli padhna sikhe – bhadr yog – kundalee mein raaj yog – Dasavan Din

बुद्ध केंद्र में मूल त्रिकोण स्वगृही अथवा उच्च का हो तो “भद्र योग” होता है। इस योग का जातक उच्च व्यवसाई होता है। अपने प्रबंधन, कौशल, बुद्धि-विवेक का उपयोग कर व्यवसाय द्वारा धनोपार्जन करता है। ऐसे जातक के जीवन में समुचित आयु में बुद्ध कि दशा आ जाय तो ऐसा जातक मिट्टी में भी हाथ …

भद्र योग – कुंडली में राज योग – दसवां दिन – Day 10 – 21 Din me kundli padhna sikhe – bhadr yog – kundalee mein raaj yog – Dasavan Din Read More »