mool nakshatra

tula lagna moola nakshatra

तुला लग्न मूल नक्षत्र – मूल नक्षत्र – You marry the child star – tula lagna moola nakshatra

तुला लग्न में केतु एकादश तृतीय षष्ठ में व गुरु एकादश, द्वितीय, तृतीय भाव में शुभ फलदायी रहेगा।वृश्चिक लग्न में नक्षत्र स्वामी केतु पंचम चतुर्थ लग्न द्वितीय दशम में व गुरु लग्न पंचम नवम दशम द्वितीय में शुभ फलदायी होगा। tula lagna moola nakshatra – तुला लग्न मूल नक्षत्र – तुला लग्न मूल नक्षत्र – …

तुला लग्न मूल नक्षत्र – मूल नक्षत्र – You marry the child star – tula lagna moola nakshatra Read More »

uttaraashaadha nakshatr parichay

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र परिचय – उत्तराषाढ़ा नक्षत्र – Uttara ashadha constellation introduction – uttaraashaadha nakshatr parichay

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र का स्वामी सूर्य है। इसका प्रथम चरण भूनाम से धनुराशि में आता है। राशि स्वामी गुरु है तो नक्षत्र स्वामी सूर्य है। सूर्य की दशा में सबसे कम 6 वर्ष की होती है। जो लगभग जन्म से 6 वर्ष के अंदर बीत जाती है। इसके बाद चंद्रमा की 10 वर्ष मंगल की 7 …

उत्तराषाढ़ा नक्षत्र परिचय – उत्तराषाढ़ा नक्षत्र – Uttara ashadha constellation introduction – uttaraashaadha nakshatr parichay Read More »

jyeshtha nakshatr

ज्येष्ठा नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Jyeshtha Star – jyeshtha nakshatr

ज्येष्ठा नक्षत्र के देवता बुध को माना जाता है,जबकि वैज्ञानिक ष्टिकोण से चीड के पेड को ज्येष्ठा नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और ज्येष्ठा नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग चीड की पूजा करते है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के खाली हिस्से में चीड के पेड को लगाते है …

ज्येष्ठा नक्षत्र – नक्षत्र के वृक्ष द्वारा अपनी समस्याओं को दूर करें – Jyeshtha Star – jyeshtha nakshatr Read More »