pathri ke 8 gharelu asardar ilaj

पथरी के ८ घरेलू असरदार इलाज

अगर आप पथरी के ८ घरेलू असरदार इलाज खोज रहे होतो आप सही जगह पे आए हो। हम आपको पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

गलत खान-पान या खराब लाइफस्टाइल की वजह से कई बीमारियां शरीर को घेर लेती हैं। इन्हीं में से एक है किडनी स्टोन। आज के समय में बड़ी संख्या में लोग पथरी की समस्या से जूझ रहे हैं। इस दौरान पेट में होने वाले दर्द को सहन करना काफी मुश्किल हो जाता है। यदि पथरी कम बनती है तो मूत्र के माध्यम से आसानी से बाहर निकल जाती है।

pathri ke 8 gharelu asardar ilaj
pathri ke 8 gharelu asardar ilaj

लेकिन अगर इनकी संख्या ज्यादा हो तो इसका शरीर पर बुरा असर पड़ता है। किडनी की छोटी-छोटी पथरी को दवाइयों और प्राकृतिक चीजों की मदद से दूर किया जा सकता है। इसके लिए नियम और संयम के साथ-साथ थोड़े धैर्य की भी जरूरत होती है। अगर आप चाहते हैं कि आपको पथरी की ज्यादा समस्या न हो या यह प्राकृतिक रूप से निकल आए तो ये 8 घरेलू नुस्खे आपके लिए कारगर साबित हो सकते हैं।

ये भी पढ़े :   पथरी की प्राथमिक घरेलू चिकित्सा - पुरुष रोग का घरेलू उपचार - pathari ke prathmik gharelu chikitsa - purush rog ka gharelu upchar

पथरी के ८ घरेलू असरदार इलाज

  1. पथरी की समस्या वाले व्यक्ति को केला खूब खाना चाहिए क्योंकि केला विटामिन बी6 का प्रमुख स्रोत है, जो ऑक्सालेट क्रिस्टल को बनने से रोकता है और ऑक्सालिक एसिड को तोड़ता है। इसके अलावा नारियल पानी का सेवन करें क्योंकि यह प्राकृतिक रूप से पोटैशियम से भरपूर होता है, जो पथरी बनने की प्रक्रिया को रोकता है और उसमें पथरी को घोल देता है।
  2. करेला कहने में तो बहुत कड़वा होता है, लेकिन पथरी में भी रामबाण साबित होता है. करेले में मैग्नीशियम और फॉस्फोरस होता है, जिससे पथरी नहीं बनती और ये एंटी-रूमेटिक और एंटी-डायबिटिक होते हैं। वह जो कुछ भी खाता है, वही चना बन जाता है। पुरानी कहावत है। चना पत्थर बनने की प्रक्रिया को रोकता है।
  3. गाजर में पाइरोफॉस्फेट और प्लांट एसिड होता है जो पथरी बनने की प्रक्रिया को रोकता है। गाजर में पाया जाने वाला कैरोटीन पदार्थ मूत्र प्रणाली की भीतरी दीवारों को टूट-फूट से बचाता है।
  4. इसके अलावा नींबू के रस और जैतून के तेल को मिलाकर तैयार किया गया मिश्रण गुर्दे की पथरी को दूर करने में काफी कारगर साबित होता है। 60 मिली नींबू के रस में बराबर मात्रा में जैतून का तेल मिलाकर एक मिश्रण तैयार कर लें। इनके मिश्रण का सेवन करने के बाद खूब पानी पीते रहें। इस प्राकृतिक उपाय से आपको बहुत जल्द गुर्दे की पथरी से छुटकारा मिल जाएगा, साथ ही आपको पथरी के कारण होने वाले दर्द से भी राहत मिलेगी।
  5. पथरी को पिघलाने के लिए आधा उबाला हुआ ऐमारैंथ का साग दिन में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में खाने से लाभ होता है, इसके साथ आधा किलो बाथ साग को तीन गिलास पानी में उबालकर कपड़े से छानकर स्नान कर लें। उसी पानी में अच्छी तरह से। थोड़ी सी काली मिर्च, जीरा और थोड़ा सा सेंधा नमक निचोड़कर दिन में चार बार पिएं, इस तरह से किडनी की खराबी और पथरी दोनों के लिए साग बहुत अच्छा माना जाता है।
  6. जीरा को चाशनी या शहद के साथ लेने से पथरी घुलकर पेशाब के साथ बाहर निकल जाती है। इसके अलावा तुलसी के बीजों को हिमजीरा दानेदार चीनी और दूध के साथ लेने से मूत्र मार्ग में फंसी पथरी दूर हो जाती है।
  7. एक मूली को खोखला करके उसमें बीस बीस ग्राम गाजर शलजम के बीज भर दें, फिर मूली को गर्म करके भून कर भून लें, उसके बाद मूली से बीज निकाल कर सिल पर पांच या छह ग्राम पीस लें. सुबह पानी इसके साथ एक महीने तक पीते रहें, पथरी में लाभ होगा।
  8. प्याज में पत्थर रोधी तत्व होते हैं। लगभग 70 ग्राम प्याज को अच्छी तरह पीसकर या मिक्सर में चलाकर पेस्ट बना लें। इसे कपड़े से निचोड़ कर रस निकाल लें। सुबह खाली पेट पीने से पथरी छोटे-छोटे टुकड़ों में निकल जाती है।
ये भी पढ़े :   पथरी के रामबाण घरेलू उपाय - घरेलू उपचार - patharee ke raamabaan ghareloo upaay - gharelu upchar

Tags: , , , , , , , , , , ,