jaanie kee kese karen bina tod-phod ke vaastu sudhaar/vaastu dosh nivaaran? 4

जानिए की केसे करें बिना तोड़-फोड़ के वास्तु सुधार/वास्तु दोष निवारण? 4 – जानिए की केसे करें बिना तोड़-फोड़ के वास्तु सुधार – jaanie kee kese karen bina tod-phod ke vaastu sudhaar/vaastu dosh nivaaran? 4 – janie lee kaise kare bina tod-fod ke vastu sudhaar

अगर पर्याप्त धर्नाजन के पश्चात भी धन संचय नहीं हो रहा हो, तो काले कुत्ते को प्रत्येक शनिवार को कड़वे तेल (सरसों के तेल) से चुपड़ी रोटी खिलाएं।
—-संध्या समय सोना, पढ़ना और भोजन करना निषिद्ध है। सोने से पूर्व पैरों को ठंडे पानी से धोना चाहिए किन्तु गीले पैर नहीं सोना चाहिए। इससे धन का क्षय होता है।
—-रात्रि में चावल, दही और सत्तू का सेवन करने से लक्ष्मी का निरादर होता है। अतः समृद्धि चाहने वालों को तथा ——जिन व्यक्तियों को आर्थिक कष्ट रहते हों, उन्हें इनका सेवन रात्रि भोज में नहीं करना चाहिये।
—–भोजन सदैव पूर्व या उत्तर की ओर मुख कर के करना चाहिए। संभव हो तो रसोईघर में ही बैठकर भोजन करें इससे राहु शांत होता है। जूते पहने हुए कभी भोजन नहीं करना चाहिए।
—-सुबह कुल्ला किए बिना पानी या चाय न पीएं। जूठे हाथों से या पैरों से कभी भी गाय, ब्राह्मण तथा अग्नि का स्पर्श न करें।
—–घर में देवी-देवताओं पर चढ़ाये गये फूल या हार के सूख जाने पर भी उन्हें घर में रखना अलाभकारी होता है।
—–अपने घर में पवित्र नदियों का जल संग्रह कर के रखना चाहिए। इसे घर के ईशान कोण में रखने से अधिक लाभ होता है।
—-किसी कार्य की सिद्धि के लिए जाते समय घर से निकलने से पूर्व ही अपने हाथ में रोटी ले लें। मार्ग में जहां भी कौए, दिखलाई दें, वहां उस रोटी के टुकड़े कर के डाल दें और आगे बढ़ जाएं। इससे सफलता प्राप्त होती है।
—–घर में समृद्धि लाने हेतु घर के उत्तर पश्चिम के कोण (वायव्य कोण) में सुन्दर से मिट्टी के बर्तन में कुछ सोने-चांदी के सिक्के, लाल कपड़े में बांध कर रखें। फिर बर्तन को गेहूं या चावल से भर दें। ऐसा करने से घर में धन का अभाव नहीं रहेगा।
—–अगर निरन्तर कर्ज में फँसते जा रहे हों, तो श्मशान के कुंड का जल लाकर किसी पीपल के वृक्ष पर चढ़ाना चाहिए।
—-घर में बार-बार धन हानि हो रही हो तों वीरवार को घर के मुख्य द्वार पर गुलाल छिड़क कर गुलाल पर शुद्ध घी का दोमुखी (दो मुख वाला) दीपक जलाना चाहिए। इससे घर में धन हानि का सामना नहीं करना पड़ेगा। जब दीपक शांत हो जाए तो उसे बहते हुए पानी में बहा देना चाहिए।
—-काले तिल परिवार के सभी सदस्यों के सिर पर सात बार उतार कर घर के उत्तर दिशा में फेंक दें, धनहानि बंद होगी।
—-घर की आर्थिक स्थिति ठीक करने के लिए घर में सोने का चैरस सिक्का रखें। कुत्ते को दूध दें। अपने कमरे में मोर का पंख रखें।
—कच्ची धानी के तेल के दीपक में लौंग डालकर हनुमान जी की आरती करें। अनिष्ट दूर होगा और धन भी प्राप्त होगा ।
—–अगर अचानक धन लाभ की स्थितियाँ बन रही हो, किन्तु लाभ नहीं मिल रहा हो, तो गोपी चन्दन की नौ डलियाँ लेकर केले के वृक्ष पर टाँग देनी चाहिए। यह चन्दन पीले धागे से ही बाँधना है। यदि व्यवसाय में आकिस्मक व्यवधान एवं पतन की सम्भावना प्रबल हो रही हो, तो प्रथम बुधवार को सफेद कपड़े के झंडे को पीपल के वृक्ष पर लगाना चाहिए।

जानिए की केसे करें बिना तोड़-फोड़ के वास्तु सुधार/वास्तु दोष निवारण? 4 – jaanie kee kese karen bina tod-phod ke vaastu sudhaar/vaastu dosh nivaaran? 4 – जानिए की केसे करें बिना तोड़-फोड़ के वास्तु सुधार – janie lee kaise kare bina tod-fod ke vastu sudhaar

 

Tags: , , , , , , , ,

1 thought on “जानिए की केसे करें बिना तोड़-फोड़ के वास्तु सुधार/वास्तु दोष निवारण? 4 – जानिए की केसे करें बिना तोड़-फोड़ के वास्तु सुधार – jaanie kee kese karen bina tod-phod ke vaastu sudhaar/vaastu dosh nivaaran? 4 – janie lee kaise kare bina tod-fod ke vastu sudhaar”

Leave a Comment