;

संपूर्ण ज्योतिष ज्ञान

paashchaatya deshon ki kundali

पाश्चात्य देशों की कुंडली – बारहवां दिन – Day 12 – 21 Din me kundli padhna sikhe – paashchaatya deshon ki kundali – Barahavaan Din

पाश्चात्य देशों में वृत्ताकार कुंडली बनाने का प्रचलन है। लग्न से आरंभ करने पर कुंडली बारह भावों में बंट जाती है। लग्न स्पष्ट को प्रथम भाव का आरंभ माना जाता है। लेकिन भारतीय पद्धति में लग्न स्पष्ट को प्रथम भाव का भाव मध्य माना जाता है। इसमें भावों को बांई ओर से क्रम से रखा …

पाश्चात्य देशों की कुंडली – बारहवां दिन – Day 12 – 21 Din me kundli padhna sikhe – paashchaatya deshon ki kundali – Barahavaan Din Read More »

rahu ka vaidik mantra - rahu ka prakop

राहु का वैदिक मंत्र – राहु के प्रकोप – आठवाँ दिन – Day 8 – 21 Din me kundli padhna sikhe – rahu ka vaidik mantra – rahu ka prakop – Aathavaan Din

राहु ग्रह सम्बन्धित पाठ पूजा आदि के स्तोत्र मंत्र तथा राहु गायत्री को पाठको की सुविधा के लिये यहां मै लिख रहा हूँ, वैदिक मंत्र अपने आप में अमूल्य है, इनका कोई मूल्य नही होता है, किसी दुखी व्यक्ति को प्रयोग करने से फ़ायदा मिलता है, तो मै समझूंगा कि मेरी मेहनत वसूल हो गयी …

राहु का वैदिक मंत्र – राहु के प्रकोप – आठवाँ दिन – Day 8 – 21 Din me kundli padhna sikhe – rahu ka vaidik mantra – rahu ka prakop – Aathavaan Din Read More »

rahu mantra ka viniyog - rahu ke prakop

राहु मंत्र का विनियोग – राहु के प्रकोप – आठवाँ दिन – Day 8 – 21 Din me kundli padhna sikhe – rahu mantra ka viniyog – rahu ke prakop – Aathavaan Din

ऊँ कया निश्चत्रेति मंत्रस्य वामदेव ऋषि: गायत्री छन्द: राहुर्देवता: राहुप्रीत्यर्थे जपे विनोयोग:॥ दाहिने हाथ में जाप करते वक्त पानी या चावल ले लें,और यह मंत्र जपते हुये वे चावल या पानी राहुदेव की प्रतिमा या यंत्र पर छोड दें। राहु मंत्र का विनियोग – राहु के प्रकोप – rahu mantra ka viniyog – rahu ke …

राहु मंत्र का विनियोग – राहु के प्रकोप – आठवाँ दिन – Day 8 – 21 Din me kundli padhna sikhe – rahu mantra ka viniyog – rahu ke prakop – Aathavaan Din Read More »

unfa yoga

अनफा योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Unfa Yoga – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक ज्योतिष में अनफा योग की प्रचलित परिभाषा के अनुसार यदि किसी कुंडली में चन्द्रमा से पिछले घर में कोई ग्रह स्थित हो तो कुंडली में अनफा योग बनता है जो जातक को स्वास्थ्य, प्रसिद्धि तथा आध्यात्मिक विकास प्रदान कर सकता है। कुछ ज्योतिषी यह मानते हैं कि इस योग की गणना के लिए …

अनफा योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Unfa Yoga – vaidik jyotish Shastra Read More »

methodology of astrology

ज्योतिष की कार्यप्रणली – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Methodology of astrology – vaidik jyotish Shastra

  हम सभी जानते है की वैदिक ज्योतिष का सम्बन्ध १२ घर १२ राशियाँ और नौ ग्रहों से है, लेकिन में यहाँ पर ज्योतिष की कार्यप्रणली के बारे में चर्चा करना चाहता हूँ ! चलो जानने की कोशिश करते है की ज्योतिष किन सिद्धांतो पर कार्य करता है और इसके पीछे छिपे क्या तथ्य है …

ज्योतिष की कार्यप्रणली – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Methodology of astrology – vaidik jyotish Shastra Read More »

introduction to vedic philosophy

वैदिक दर्शन के परिचय – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Introduction to Vedic Philosophy – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक दर्शन के परिचय के लिये यह वेदान्गी भूत ज्योतिष दर्शन सूर्य के समान प्रकाश देने का काम करता है,अतएव इसे वेद पुरुष या ब्रह्मपुरुष का चक्षु: (सूर्य) भी कहा गया है। ज्योतिषामयनं चक्षु: सूर्यो अजायत,इत्यादि आगम वचनों के आधार से त्रिस्कंध ज्योतिष शास्त्र के के प्रधान प्रमुख सर्वोपादेय ग्रह गणित ग्रन्थ का नाम …

वैदिक दर्शन के परिचय – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Introduction to Vedic Philosophy – vaidik jyotish Shastra Read More »

sunfa yoga

सुनफा योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Sunfa Yoga – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक ज्योतिष में सुनफा योग की प्रचलित परिभाषा के अनुसार यदि किसी कुंडली में चन्द्रमा से अगले घर में कोई ग्रह स्थित हो तो कुंडली में सुनफा योग बनता है जो जातक को धन, संपत्ति तथा प्रसिद्धि प्रदान कर सकता है। कुछ ज्योतिषी यह मानते हैं कि इस योग की गणना के लिए सूर्य …

सुनफा योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Sunfa Yoga – vaidik jyotish Shastra Read More »

some other money totals

कुछ अन्य धन योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Some other money totals – vaidik jyotish Shastra

  यह तो बात हुई लग्न द्वारा धन लाभ के योगों की अब हम कुछ अन्य धन योगों के विषय में चर्चा करेंगे जो इस प्रकार बनते हैं. मेष या कर्क राशि में स्थित बुध व्यक्ति को धनवान बनाता है, जब गुरु नवे और ग्यारहवें और सूर्य पांचवे भाव में बैठा हो तब व्यक्ति धनवान …

कुछ अन्य धन योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Some other money totals – vaidik jyotish Shastra Read More »

vedic astrology

वैदिक ज्योतिष विद्या – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Vedic astrology – vaidik jyotish Shastra

  भारतीय ज्योतिष शास्त्र में अलग-अलग तरीके से भाग्य या भविष्य बताया जाता है। माना जाता है कि भारत में लगभग 150 से ज्यादा ज्योतिष विद्या प्रचलित हैं। प्रत्येक विद्या आपके भविष्य को बताने का दावा करती है। माना यह भी जाता है कि प्रत्येक विद्या भविष्य बताने में सक्षम है, लेकिन उक्त विद्या के …

वैदिक ज्योतिष विद्या – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Vedic astrology – vaidik jyotish Shastra Read More »

mountain yoga

पर्वत योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Mountain yoga – vaidik jyotish Shastra

  वैदिक ज्योतिष के अनुसार पर्वत योग को एक शुभ योग माना जाता है तथा ऐसा माना जाता है कि किसी कुंडली में इस योग के बनने से जातक को धन, संपत्ति, प्रतिषठा तथा सम्मान आदि की प्राप्ति होती है। पर्वत योग के किसी कुंडली में निर्माण संबंधी नियमों को लेकर एक से अधिक धारणाएं …

पर्वत योग – वैदिक ज्योतिष शास्त्र | Mountain yoga – vaidik jyotish Shastra Read More »