सदा के लिए शूगर से मुक्ति, मधुमेह रोगी इस पोस्ट को पढने से ना चुके | Sada ke liye sugar se mukti

सदा के लिए शूगर से मुक्ति, मधुमेह रोगी इस पोस्ट को पढने से ना चुके

मधुमेह के रोगी का आहार केवल पेट भरने के लिए ही नहीं होता, उसके शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा को संतुलित रखने में सहायक होता है। चूंकि यह रोग मनुष्य के साथ जीवन भर रहता है इसलिए जरूरी है कि वह अपने खानपान पर हमेशा ध्यान रखा जाए।




मधुमेह के लक्षण

मधुमेह के कुछ लक्षणों को जानने की जरूरत है, ऐसे कई सामान्य लक्षण हैं जो अगर आप समय रहते ध्यान दें तो इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है। मधुमेह के कुछ ऐसे लक्षण इस प्रकार हैं।

  • लगातार पेशाब आना।
  • लगातार शरीर में दर्द की शिकायत।
  • बार-बार त्वचा और प्राइवेट पार्ट में संक्रमण या कैविटी होना।
  • पेट मे गेस।
  • बार-बार प्यास लगना।
  • कमजोर नजर।
  • अचानक वजन बढ़ना या कम होना।
  • लगातार थकान या कमजोरी महसूस होना।
  • जरूरत से ज्यादा भूख लगना।
  • व्यवहार में चिड़चिड़ापन होना।

यदि आप अपने शरीर में लक्षण देखते हैं, तो आपको मधुमेह परीक्षण अवश्य करवाना चाहिए। अब हम जानते हैं कि मधुमेह क्यों होता है।

Kundli dosh nivaran in hindi

मधुमेह से बचाव कैसे करे?

एक समय था जब मधुमेह एक आनुवांशिक बीमारी थी या यह केवल बड़े होने के बाद होती थी, लेकिन आज यह जीवनशैली किसी को भी मधुमेह का कारण बन सकती है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि समय पर इस पर ध्यान देने से, अपनी कुछ आदतों को बदलकर और अपनी दिनचर्या में कुछ बदलाव करके, इस बीमारी से बचा जा सकता है और जिनके पास पहले से मधुमेह है, वे इसे नियंत्रित कर सकते हैं। नीचे हम ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में बता रहे हैं।

वजन को नियंत्रण में रखें

हमेशा अपने वजन का ध्यान रखें। मोटापा अपने साथ कई बीमारियाँ लाता है और मधुमेह भी उनमें से एक है। यदि आप अधिक वजन या कम वजन के हैं, तो तुरंत इस पर ध्यान दें और समय पर इसे नियंत्रित करें।

तनाव से दूर रहें

तनाव भी मधुमेह के लिए जिम्मेदार है। इसलिए, अपने दिमाग को शांत रखना महत्वपूर्ण है और इसके लिए आप ध्यान और ध्यान का सहारा लेते हैं।

पूरी नींद

पर्याप्त नींद न लेने या पर्याप्त नींद न लेने के कारण कई बीमारियाँ होती हैं। मधुमेह भी उनमें से एक है। इसलिए समय पर सोएं और समय पर जागें।

धूम्रपान से दूर रहें

धूम्रपान से न केवल लंग्स प्रभावित होते हैं, बल्कि अगर कोई मधुमेह रोगी धूम्रपान करता है, तो हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।

व्यायाम

स्वास्थ्य के लिए शारीरिक गतिविधि बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यदि शारीरिक परिश्रम नहीं है, तो वजन बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है और फिर मधुमेह हो सकता है। इसलिए जितना हो सके, व्यायाम करें। अगर आपका व्यायाम करने का मन नहीं है, तो सुबह, शाम टहलने जाएं, योगा करें या सीढ़ियां चढ़ें।

मधुमेह कुछ और टिप्स

सही आहार

शुगर के रोगियों को अपने भोजन का विशेष ध्यान रखना चाहिए। जितना हो सके चीनी से बचें, बाहरी और तैलीय खाद्य पदार्थों से दूर रहें, क्योंकि इससे वजन बढ़ने और फिर मधुमेह होने का खतरा बढ़ जाता है। सही आहार का पालन करें, अपने आहार में प्रोटीन और विटामिन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें।

सही मात्रा में पानी पियें

आपने एक कहावत तो सुनी ही होगी कि right जल ही जीवन है ’। हमारे शरीर को पानी की सख्त जरूरत होती है, क्योंकि एक वयस्क के शरीर में 60 प्रतिशत पानी होता है। सबसे ज्यादा पानी एक शिशु और बच्चे में होता है। पानी से कई बीमारियां ठीक हो जाती हैं। मधुमेह के रोगियों के लिए भी पानी बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए जितना हो सके पानी पिएं।

रेगुलर चेकअप

अपने ब्लड शुगर लेवल को जानने के लिए, अपना डायबिटीज टेस्ट नियमित रूप से कराएं और इसका एक चार्ट बनाएं ताकि आपको अपने डायबिटीज की घटनाओं के बारे में पता चले।

मीठा कम खाएं

बहुत मीठा न खाएं, खासकर पेस्ट्री और केक जैसी चीजें। अगर आपको मिठाइयाँ बहुत पसंद हैं, तो घर पर बनी मिठाइयाँ कम खाने की कोशिश करें और वह भी सीमित मात्रा में।
यदि आपको मधुमेह नहीं है, तो आप स्वस्थ जीवन शैली अपनाकर अपने मधुमेह की संभावना को और अधिक रोक सकते हैं। इसके अलावा, जिन लोगों को मधुमेह है, वे ऊपर दिए गए इन सुझावों को अपनाकर अपनी बीमारी को भी नियंत्रित कर सकते हैं।

मधुमेह रोगी के लिए २० उपाय

  1. आमतौर मरीज ब्लडशुगर की नार्मल रिपोर्ट आते ही लापरवाह हो जाता है। मधुमेह के मरीज के मुंह में गया हर कौर उसके स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। इसलिए जो भी खाएं सोच समझकर खाएं।
  2. इन्सुलिन हार्मोन के स्रावण में कमी से डायबिटीज रोग होता है। डायबिटीज आनुवांशिक या उम्र बढ़ने पर या मोटापे के कारण या तनाव के कारण हो सकता है।
  3. डायबिटीज ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति को काफी परहेज से रहना होता है। बदपरहेजी करने के दूरगामी परिणाम बुरे होते है।
  4. मधुमेह के रोगी को आंखों व किडनी के रोग, सुन्नपन आना जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए सदैव यही प्रयत्न करना चाहिए कि ब्लड ग्लूकोज लेवल फास्टिंग 70-110 मिलीग्राम/ डीएल व खाना खाने के 2 घंटे बाद का 100-140 मिलीग्राम डीएल बना रहे।
  5. इसके लिए इन्हें खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। 45 मिनट से 1 घंटा तेज गति से पैदल चलना या अन्य कोई भी व्यायाम करना चाहिए।
  6. सही समय पर दवाई या इंसुलिन लेना चाहिए। डायबिटिक व्यक्ति को अपने वजन व लंबाई के अनुसार प्रस्तावित कैलोरीज से 5 प्रतिशत कम कैलोरी का सेवन करना चाहिए।
    • उदाहरण के तौर पर यदि किसी व्यक्ति की लंबाई 5 फुट 4 इंच है तो उसका आदर्श वजन 55 किग्रा होना चाहिए। व्यक्ति की क्रियाशीलता यदि कम है, जैसे कि वह बैठे-बैठे कार्य करता है तो उसे 2400 कैलोरी लेना चाहिए।
  7. डायबिटिक हो तो इसका 5 प्रतिशत कम अर्थात 2280 कैलोरी आहार उसके लिए सही रहेगा। यदि वह मोटा हो तो उसे 200-300 कैलोरी और घटा देना चाहिए।
  8. ब्लड ग्लूकोज लेवल फास्टिंग 70-110 मिलीग्राम/ डीएल व खाना खाने के 2 घंटे बाद का 100-140 मिलीग्राम डीएल बना रहे। इसके लिए इन्हें खान-पान का विशेष ध्यान रखना चाहिए।
  9. 45 मिनट से 1 घंटा तीव्र गति से पैदल चलना या अन्य कोई भी व्यायाम करना चाहिए।
  10. सामान्य डायबिटिक व्यक्ति को अपने आहार में कुल कैलोरी का 40 प्रश कार्बोहाइड्रेटयुक्त पदार्थों से, 40 प्रतिशत फेट (वसा) युक्त पदार्थों से व 20 प्रतिशत प्रोटीनयुक्त पदार्थों से लेना चाहिए।
  11. एक वयस्क अधिक वजनी डायबिटिक व्यक्ति को 60 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट से, 20 प्रतिशत फेट से व 20 प्रतिशत प्रोटीन से कैलोरी लेना चाहिए।
  12. डायबिटिक व्यक्ति को प्रोटीन अच्छी मात्रा में व उच्च गुणवत्ता वाला लेना चाहिए जैसे दूध, दही, पनीर, अंडा, मछली, सोयाबीन आदि का सेवन करना चाहिए।
  13. इंसुलिन ले रहे डायबिटिक व्यक्ति एवं गोलियां ले रहे डायबिटिक व्यक्ति को खाना सही समय पर लेना चाहिए। ऐसा न करनेपर हायपोग्लाइसीमिया हो सकता है, जिसके लक्षण निम्न हैं –
    (1) कमजोरी लगना,
    (2) अत्यधिक भूख लगना,
    (3) पसीना आना,
    (4) नजर से धुंधला या डबल दिखना,
    (5) हृदयगति तेज होना,
    (6) झटके आना एवं गंभीर स्थिति होने पर कोमा भी हो सकता है।
  14. डायबिटिक व्यक्ति को हमेशा अपने साथ कोई मीठी चीज जैसे ग्लूकोज, शकर, चॉकलेट, मीठे बिस्किट में से कुछ रखना चाहिए एवं ऐसे लक्षण होने पर तुरंत इनका सेवन करना चाहिए।
  15. एक सामान्य डायबिटिक व्यक्ति को अपने आहार में निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए कि वे थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ खाते रहें। दो या ढाई घंटे में कुछ खाएं। एक समय पर बहुत सारा खाना न खाएं।
  16. तले हुए पदार्थ, मिठाइयां, बेकरी के पदार्थों से परहेज करें। सदैव डबल टोन्ड दूध (स्किम्ड मिल्क) का प्रयोग करें।
  17. कम कैलोरीयुक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें जैसे भुना चना छिलके वाला, परमल, अंकुरित अनाज, सूप, सलाद आदि का ज्यादा सेवन करें। दही (स्किम्ड मिल्क) से बनाया हुआ ले सकते हैं। छाछ का सेवन श्रेयस्कर होता है।
  18. मैथीदाना (दरदरा पिसा हुआ) 1/2-1 चम्मच खाना खाने के 15-20 मिनट पहले लेने से शुगर कंट्रोल में रहती है व फायदा होता है। रोटी के आटे को बिना चोकर निकाले प्रयोग में लाएं व इसकी गुणवत्ता बढ़ाने के लिए इसमें सोयाबीन मिला सकते हैं।
  19. घी व तेल का सेवन दिनभर में 20 ग्राम (4 चम्मच) से ज्यादा नहीं होना चाहिए। अतः सभी सब्जियों को कम से कम तेल का प्रयोग करके नॉनस्टिक कुकवेयर में पकाना चाहिए।
  20. हरी पत्तेदार सब्जियां खाना चाहिए। अपनी कैलोरीज का निर्धारण कुशल डायटिशियन से बनाकर उसके अनुसार चलें तो अवश्य ही लाभ होगा व भोजन में विकल्प ज्यादा मिल सकते हैं जिससे आपका भोजन वैरायटी वाला हो सकता है व बोरियत नहीं होगी।

FAQ :- मधुमेह के बारे मे कुछ सवाल जवाब

मधुमेह से बचाव कैसे करे?

एक समय था जब मधुमेह एक आनुवांशिक बीमारी थी या यह केवल बड़े होने के बाद होती थी, लेकिन आज यह जीवनशैली किसी को भी मधुमेह का कारण बन सकती है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि समय पर इस पर ध्यान देने से, अपनी कुछ आदतों को बदलकर और अपनी दिनचर्या में कुछ बदलाव करके, इस बीमारी से बचा जा सकता है और जिनके पास पहले से मधुमेह है, वे इसे नियंत्रित कर सकते हैं। नीचे हम ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में बता रहे हैं।

सदा के लिए शूगर से मुक्ति, मधुमेह रोगी इस पोस्ट को पढने से ना चुके

मधुमेह के रोगी का आहार केवल पेट भरने के लिए ही नहीं होता, उसके शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा को संतुलित रखने में सहायक होता है। चूंकि यह रोग मनुष्य के साथ जीवन भर रहता है इसलिए जरूरी है कि वह अपने खानपान पर हमेशा ध्यान रखा जाए।

मधुमेह के लक्षण क्या है?

लगातार पेशाब आना।
लगातार शरीर में दर्द की शिकायत।
बार-बार त्वचा और प्राइवेट पार्ट में संक्रमण या कैविटी होना।
पेट मे गेस।
बार-बार प्यास लगना।
कमजोर नजर।
अचानक वजन बढ़ना या कम होना।
लगातार थकान या कमजोरी महसूस होना।
जरूरत से ज्यादा भूख लगना।
व्यवहार में चिड़चिड़ापन होना।

मधुमेह के लिए कुछ टिप्स है क्या ?

सही आहार
सही मात्रा में पानी पियें
रेगुलर चेकअप
मीठा कम खाएं

संपूर्ण चाणक्य निति
संपूर्ण चाणक्य निति
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

1 thought on “सदा के लिए शूगर से मुक्ति, मधुमेह रोगी इस पोस्ट को पढने से ना चुके | Sada ke liye sugar se mukti”

Leave a Comment